EVM और वीवीपैट की पर्ची की गिनती का मिलान नहीं होने पर निर्वाचन आयोग लेगा अंतिम फैसला

EVM और वीवीपैट की पर्ची की गिनती का मिलान नहीं होने पर निर्वाचन आयोग लेगा अंतिम फैसला

Chandu Nirmalkar | Publish: Dec, 08 2018 06:34:01 PM (IST) Rajnandgaon, Rajnandgaon, Chhattisgarh, India

मोबाइल में वीडियो या फोटो लेने में भी रोक रहेगी क्योंकि मोबाइल मतगणना स्थल तक नहीं ले जाया जा सकता।

राजनांदगांव. मतगणना के दौरान इस बार मीडिया पर काफी सारी बंदिशें लाद दी गई हैं। अव्वल तो अखबारों के फोटोग्राफरों को मतगणना स्थल से बाहर रखने का फरमान चुनाव आयोग ने जारी कर दिया है तो मीडियाकर्मियों को प्रशासन के प्रतिनिधि की मौजूदगी में ही समूह में मतगणना स्थल में ले जाने की व्यवस्था कर दी गई है। मोबाइल में वीडियो या फोटो लेने में भी रोक रहेगी क्योंकि मोबाइल मतगणना स्थल तक नहीं ले जाया जा सकता। मीडियाकर्मियों को मीडिया सेंटर तक ही मोबाइल का उपयोग करने की छूट होगी और मीडिया सेंटर मतगणना कक्ष से काफी दूर प्रवेश द्वार के पास ही बनाए जाने की जानकारी मिली है।

कलक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी भीम सिंह ने आज दोपहर मीडिया को चुनाव आयोग के निर्देशों और मतगणना की प्र.क्रिया की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 11 दिसम्बर को सुबह आठ बजे से मतगणना शुरू की जाएगी। सबसे पहले डाक मत पत्रों और सेवा मतों की गणना की जाएगी। साढ़े 8 बजे तक इसकी गणना पूरी होने के बाद इवीएम से गणना का काम शुरू किया जाएगा।

हर विस में एक वीवीपैट की गिनती
आयोग के निर्देश के तहत हर विधानसभा क्षेत्र के आखिरी राउंड की गिनती के वक्त रेंडमली चुने गए एक केन्द्र के वीवीपैट की गिनती की जाएगी। इस केन्द्र के इवीएम और वीवीपैट की पर्ची की गिनती का मिलान सही होने पर
दिक्कत नहीं होगी। अंतर होने की स्थिति में इस पर फैसला निर्वाचन आयोग करेगा।

हर विस में लगेंगे 14-14 टेबल
विधानसभावार इवीएम की गणना 14-14 टेबल लगाकर किया जाएगा। विधानसभावार मतदान केन्द्रों की संख्या को देखें तो इस प्रक्रिया में 16 से 20 राउंड तक की गणना होगी। सबसे कम राउंड राजनांदगांव में होगा लेकिन यहां प्रत्याशियों की संख्या सबसे ज्यादा होने के चलते यहां का रिजल्ट सबसे आखिर में आएगा। मानपुर का परिणाम सबसे पहले आने का अनुमान है।

लगेगा लंबा वक्त
डाक मत पत्र का परिणाम आने के बाद करीब पौने नौ बजे इवीएम की गणना शुरू होगी। गणना में आधा घंटा का वक्त लग सकता है। अब इस गणना के एआरओ और फिर आरओ से मिलान होने के बाद टेबुलेशन के लिए भेजा जाएगा। टेबुलेशन हो जाने के आरओ फिर इसका मिलान करेंगे। इसके बाद ऑब्जर्वर मिलान करेंगे। इस सब में 15 से 20 मिनट लग सकता है। इसके बाद परिणाम की घोषणा होगी। घोषणा के बाद दूसरे दौर के लिए इवीएम लाई जाएंगी। इस तरह हर राउंड के बीच 15 से 20 मिनट का खाली समय जाएगा और पूरी प्रक्रिया में लंबा वक्त लगेगा।

ऐसी स्थिति में ऐसे होगी गिनती
गिनती के लिए लाए गए इवीएम के काम नहीं करने और बैटरी बदलने के बाद भी उसमें डिस्प्ले नहीं होने के चलते उस केन्द्र के वीवीपैट की गिनती सबसे आखिर में की जाएगी।

पांच जगह नहीं डिलीट हुए मॉकपोल
कलक्टर ने बताया कि मॉक पोल के आंकड़ों को डिलिट किए बिना मतदान करने वाले केन्द्रों के वीवीपैट की गिनती की जाएगी। उन्होंने बताया कि जिले में कुल पांच केन्द्रों (डोंगरगांव और डोंगरगढ़ में दो-दो और खुज्जी में एक केन्द्र) में ऐसा हुआ है। यहां के वीवीपैट की गिनती की जाएगी। उन्होंने बताया कि मतदान के पहले वीवीपैट से पर्चियां निकाल ली गई थीं। ऐसे में गलती की गुंजाइश नहीं है।

प्रिंट से एक, इलेक्ट्रानिक से दो
कलक्टर ने बताया कि आयोग ने प्रिंट मीडिया से एक रिपोर्टर को पास जारी करने का आदेश दिया है। मतदान के दौरान प्रवेश पत्र हासिल करने वाले फोटोग्राफरों को मतगणना स्थल में प्रवेश नहीं देने का फरमान है। इलेक्ट्रानिक मीडिया से दो लोगों को प्रवेश देेने कहा गया है। हालांकि आयोग की इस व्यवस्था को लेकर मीडिया ने आपत्ति भी दर्ज की लेकिन फिलहाल इस व्यवस्था को लेकर कोई नतीजा नहीं निकला।

ये व्यवस्था रहेगी
- मीडिया सेंटर में टीवी, इंटरनेट और फोटोकॉपी मशीन की व्यवस्था रहेगी।
- आपात चिकित्सा की व्यवस्था मतगणना स्थल में होगी।
- फायर ब्रिगेड की व्यवस्था होगी।
- मतगणना स्थल के बाहर लाउड स्पीकर लगाए जाएंगे। स्थल के बाहर मौजूद आम जनता जिला निर्वाचन अधिकारी की हर राउंड के परिणामों की घोषणा को बाहर से ही इस माध्यम से सुन सकते हैं।

ऐसी सुरक्षा व्यवस्था
मतगणना स्थल में तीन लेयर में सुरक्षा व्यवस्था होगी। पहले लेयर पर राज्य पुलिस कमान संभालेगी। दूसरे लेयर पर स्टेट आम्र्स फोर्स मौजूद होगी तो तीसरे लेयर पर इंडो तिब्बत बार्डर पुलिस (आईटीबीपी) के हाथों सुरक्षा का जिम्मा होगा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned