घर बैठे पूरे होंगे दैनिक जरूरत के काम- सांसद

- डिजिटल गांव योजना का आगाज

By: Rakesh Gandhi

Published: 18 Feb 2020, 08:34 PM IST

राजसमन्द. डिजिटल गांव योजना का उद्देश्य दूर दराज और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को संचार के माध्यम से आधुनिक सुविधाओं से जोड़कर शिक्षित करना है। ताकि घर बैठे ही आम आदमी की दैनिक जरूरतों के कार्य पूर्ण हो सके। डिजिटल गांव योजना के तहत सबसे पहले इंटरनेट नेटवर्क की व्यवस्था को सुधारा जाएगा। इसके साथ ही शिक्षा, चिकित्सा, टेली मेडिसन, बैंकिंग और कृषि जैसे क्षेत्रों के बारे में अधिकतम जानकारी दी जाएगी। केंद्र सरकार की और भी ऐसी योजनाए हैं, जिसको जनता तक पहुंचाया जाएगा।
सांसद दीया कुमारी मंगलवार शाम को तुलसी साधना शिखर स्थित अणुव्रत सभागार में डिजिटल गांव योजना कार्यक्रम के उद्घाटन अवसर पर स्थानीय नागरिकों को संबोधित कर रही थी। इसके बाद उन्होंने जिला कलक्ट्री में डिजिटल टेक्नोलोजी लेस मोबाईल वेन कार्यक्रम का भी उद्घाटन किया। डिजिटल गांव योजना के तहत राजसमन्द की 211 पंचायतों को डिजिटल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि निश्चित समयावधि में मोबाईल वेन पूरे जिले भर का दौरा कर प्रत्येक गांव में पहुंचेगी और हर पंचायत स्तर एक केंद्र बनाया जाएगा, जहां से पंचायत से जुड़े सभी गांव इस योजना से सम्बद्ध होंगे।
क्या है डिजिटल टेक्नोलॉजी लेस मोबाइल वेन
भारत सरकार और सीएससी इंडिया द्वारा प्रदान की गई वेन मे एक डिजिटल लेब बनी हुई हैं। इसमें चार लैपटाप, एक एलसीडी लगी हुई है, साथ ही पावर की लिए एक जनरेटर लगा है। यह सुदूर गांवों के नागरिकों को डिजिटल इंडिया संदेश और सरकार की सेवाएं देगी ये वैन आम लोगों के घर में डिजिटल जागरूकता और डिजिटल साक्षरता लाएगी। इस पहल से युवाओं और महिलाओं को गांव में शिक्षा मिल सकेगी। इस अवसर पर बड़ी संख्या में नागरिक, कार्यकर्ता व सीएसआर उपलब्ध करवाने वाली एचडीएफसी बैंक के अधिकारी उपस्थित थे।

Rakesh Gandhi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned