#TastyTasty: जानिए रामपुर में बनने वाला हब्शी हलवा कैसे बन गया सऊदी के शेखों की पसंद

Jai Prakash | Updated: 14 Aug 2019, 02:31:28 PM (IST) Rampur, Rampur, Uttar Pradesh, India

मुख्य बातें

  • नवाबों के दौर में शुरू हुआ था हब्शी हलवा
  • दक्षिण अफ्रीका से लाए थे रामपुर के नवाब
  • अब पूरी दुनिया में है मशहूर

रामपुर: टेस्टी-टेस्टी में आज हम लायें हैं रामपुर के मशहूर हब्शी हलवे की। मुगलकालीन इस डिश के दीवाने न सिर्फ रामपुर और देश में हैं, बल्कि अब इस मिठास की मांग सात समुन्दर पार तक है। इस हलवे के शौक़ीन अब सऊदी के शेख भी बन चुके हैं। देश से जाने वाले लोगों से वे इस हलवे की ख़ास डिमांड रखते हैं। रामपुर में इसकी शुरुआत नवाब खानदान ने शुरू करवाई थी। जिसके बाद आज ये आम लोगों के लिए भी मौजूद है।

तत्कालीन नबाब हामिद अली ख़ान अफ्रीका के एक हकीम को रामपुर लाए थे, उस हकीम से उन्होंने कहा कुछ विशेष तरह का हलवा बनाने के लिए कहा था। हामिद अली के आदेश का पालन करते हुए हकीम ने तमाम जड़ी बूटियों, मेवा मिष्ठान, समेत देसी घी से हलवा तैयार किया। जिसका नाम हब्शी हलवा रखा। नबाब हामिद अली खान को ये हलवा बहुत पसंद आया, उनकी पसंद की वजह से यह हलवा उनके शासनकाल में भी लोग बहुत पसंद करते थे और आज भी। जिले से लेकर तहसीलो तक हलवे की बड़ी बड़ी दुकानें हैं। रामपुर जो भी घूमने आता है यहां का हब्शी हलवा जरूर खरीद कर अपने घर ले जाता है। हलवे का स्वाद हलवे की ताकत को लेकर जिसने सुना, जिसने समझा और जाना उसने इस हलवे को खरीदा, और फिर निरंतर खरीदने के लिए रामपुर भी आया है। यही वजह है कि आज भी रामपुर में हिंदुस्तान के कोने कोने से इस हलवे को खरीदने के लिए लोग आते हैं।और हलवा खरीद कर अपने घर ले जाते हैं हलवे की खासियत है कि जिसकी जुबान पर एक बार उसका स्वाद लग जाए तो फिर वह हर हाल में इस हलवे को खरीदने के लिए रामपुर जरूर आएगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned