कोचांग के ग्राम प्रधान की हत्या, पत्थलगड़ी के खिलाफ दिया था पुलिस का साथ

Pathalgadi In Jharkhand: पिछले वर्ष कोचांग को ही पत्थलगड़ी ( Pathalgadi Jharkhand ) आंदोलन के नेताओं ने अपना मुख्यालय बनाया था। कोचांग ( Kochang Village Khunti ) के ग्राम प्रमुख सुखराम ( Sukhram ) ने पत्थलगड़ी को रोकने में पुलिस का खूब सहयोग किया था।

 

By: Prateek

Published: 07 Jul 2019, 04:21 PM IST

(रांची,रवि सिन्हा): झारखंड के खूंटी ( Khunti ) जिले में पत्थलगड़ी ( Pathalgadi ) प्रभावित कोचांग ( Kochang ) गांव के ग्राम प्रधान सुखराम मुंडा की हत्या से पूरे इलाके में भय और दहशत का माहौल है। पुलिस ( jharkhand police ) मामले की छानबीन में जुट गई है और जल्द ही हत्याकांड का खुलासा कर लेने का दावा किया गया है।

 

 

बाइक पर सवार होकर आए, गोली मार हुए फरार

पत्थलगड़ी ( Pathalgadi Jharkhand ) प्रभावित क्षेत्र कोचांग गांव के ग्राम प्रधान सुखराम मुंडा की अज्ञात लोगों ने शनिवार देर रात गोली मारकर हत्या कर दी है। जानकारी के अनुसार दो-तीन बाईक पर सवार अज्ञात लोग गांव आए थे और सुखराम मुंडा को गांव स्थित चौक में ही गोली मारी गई। बताया गया है कि मौके पर पुलिस पहुंच कर शव को अपने कब्जे में कर लिया है। हत्या के कारण का अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है।

 

 

रातभर पुलिस पिकेट में रखा शव

पुलिस ने रातभर कोचांग स्थित पुलिस पिकेट में मृतक के शव को रखा और सुबह में खूंटी सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।


पुलिस का किया था सहयोग


जानकारी के अनुसार कोचांग घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र है और यहां पत्थलगड़ी समर्थकों के साथ-साथ पीएलएफआइ और माओवादी का बोलबाला है। पत्थलगड़ी इलाके में कोचांग के ग्राम प्रधान सुखराम मुंडा ने गांव में पुलिस पिकेट निर्माण में पुलिस का सहयोग किया था।

 

 

पत्थलगड़ी समर्थकों का लगा था डेरा

पिछले वर्ष कोचांग ( Kochang Village Khunti ) को ही पत्थलगड़ी आंदोलन के नेताओं ने अपना मुख्यालय बनाया था। पुलिस ने पत्थलगड़ी आंदोलन के तीन दर्जन से अधिक नेताओं के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया है, इस आंदोलन से जुड़े कई नेताओं की गिरफ्तारी भी हो चुकी है, वहीं आंदोलन से जुड़े कई नेता फरार है,ऐसे सात नेताओं के घरों की कुर्की जब्ती की भी कार्रवाई की जा चुकी है।

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे...

यह भी पढे: मॉब लिचिंग: झारखंड में 3 साल में 18 लोगों की मौत, बढ़ता जा रहा है भीड़तंत्र का ऐसा सलूक

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned