बड़ा खुलासा: मध्यप्रदेश के इस शेल्टर होम में संचालिका शराब पीकर करती थी बच्चिों से मारपीट, पति अश्लील हरकत

बड़ा खुलासा: मध्यप्रदेश के इस शेल्टर होम में संचालिका शराब पीकर करती थी बच्चिों से मारपीट, पति अश्लील हरकत

Sachin Trivedi | Publish: Feb, 01 2019 02:17:07 PM (IST) Ratlam, Ratlam, Madhya Pradesh, India

बड़ा खुलासा: मध्यप्रदेश के इस शेल्टर होम में संचालिका शराब पीकर करती थी बच्चिों से मारपीट, पति अश्लील हरकत

रतलाम. बालिका गृह में रहने वाली बालिकाओं ने प्रशासन की जांच समिति में आश्रम की संचालिका रही और जिला बाल कल्याण समिति अध्यक्ष रचना भारतीय पर गंभीर आरोप लगाए हैं। बालिकाओं ने एसडीएम की अध्यक्षता में गठित जांच समिति को दिए दिए बयान में बताया कि रचना उन्हें शराब पीकर मारती थी, जिससे कई बार उन्हें चोंट भी आई है। इतना ही नहीं वह बच्च्यिों से अपने लिए शराब के पैक भी बनवाती थी और घर में काम करवाती थी। बालिकाओं ने बताया कि रचना का पति ओम प्रकाश भारतीय रचना की गैरमौजूदगी में यौन शोषण करता था। शिकायत करने पर भी रचना पिटाई करती थी। पिपलौदा रोड स्थित कुंदन वेलफेयर आर्गेनाईजेशन के तहत संचालित होने वाले कुंदन कुटीर बालगृह (बालिका) से 24 जनवरी को फरार हुई बालिकाओं के मामले की जांच में अनुविभागीय अधिकारी एमएल आर्य ने जांच के दौरान करीब 26 लोगों के बयान लिए और इसे 60 पेजों पर दर्ज किया। एसडीएम ने करीब 8 पेज की जांच रिर्पोट कलेक्टर को सांैपी। बच्चियों ने बताया कि वे स्कूल में मिलने वाले मध्यान्ह भोजन से खाना लाकर रात तक गुजारा करती थी। सुबह और शाम रचना और उसके पति (मां और पा) को प्रणाम करना पड़ता था। बालिकाओं ने बताया बच्चियां जिन्हें पा कहती थे, वे उनके साथ छेड़छाड़ करते थे, गंदी हरकते करते थे, बयान में कुछ ने तो उनके साथ रेप तक करने की बात स्वीकार की है। वहीं कुछ ने बताया कि उनके पति बाइक पर बैठाकर फार्म पर ले जाकर गलत काम करते थे।

महिला अधिकारी ने पीडि़ता बालिकाओं के बयान दर्ज किए

एसडीएम आर्य ने बताया कि बाल कल्याण समिति सदस्य कैलाश नारायण, जीवराज पुरोहित, वीरेंद्र कुलकर्णी तथा सुनीता अवतानिया ने बताया कि लड़कियों के भागने का पहला मामला नहीं है, पूर्व में करीब 4 बालिकाएं फरार हो चुकी है। बालिकाओं के सुपुर्दगी पत्र पर सदस्यों को हस्ताक्षर जबरन करवा लेती थी, समिति समक्ष प्रस्तुत ही नहीं किया जाता था। बालिका गृह से जुड़ा मामला पुलिस के पास आने के बाद गुरुवार को पुलिस की महिला अधिकारी ने पीडि़ता बालिकाओं के बयान दर्ज किए। वन स्टॉप सेंटर में मौजूद बालिकाओं में शामिल आठ बालिकाओं के अब तक बयान हो चुके है। शेष बालिकाओं के बयान अब शुक्रवार को होंगे। पुलिस में बयान दर्ज कराए जाने के बाद इन सभी के धारा 164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष भी बयान दर्ज कराए जाएंगे, जिससे कि बाद में किसी प्रकार की परेशानी न हो।

patrika

एनजीओ के अध्यक्ष संदेश जैन तथा सचिव दिलीप बरैया गिरफ्तार

एसडीएम आर्य ने बताया कि बालिका गृह के संचालन के लिए इस एनजीओ को अब तक शासन की और करीब 38 लाख रुपए का अनुदान मिल चुका है। वहीं इनके द्वारा शहर की कई सामाजिक संस्थाओं से भी दान की राशि प्राप्त की है। रिकॉर्ड में 16 कर्मचारियों के नाम लिखे थे, लेकिन मौके पर महज 4 कर्मचारी ही पाए गए। जांच रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने डॉ. रचना भारतीय, उसके पति ओमप्रकाश भारतीय के साथ एनजीओ के अध्यक्ष संदेश जैन तथा सचिव दिलीप बरैया को गिरफ्तार कर लिया है। ओद्योगिक क्षैत्र थाने पर गुरुवार को प्रभारी नायब तहसीलदार सीएल टांक की रिपोर्ट पर पुलिस ने चारौ आरोपियों पर लैगिंग अपराधों से बालकों का सरंक्षण अधिनियम (पास्को एक्ट) की धारा तथा किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम की धारा 75 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।

patrika

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned