महालक्ष्मी मंदिर यहां प्रसाद में बंटते हैं सोने चांदी के आभूषण, देखें यहां पहली बार

रतलाम जिले में एक ऐसा मंदिर है जहां लोगों को प्रसाद में आभूषण बांटे जाते है।

By: Ashtha Awasthi

Published: 25 Nov 2017, 04:15 PM IST

रतलाम। मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में एक ऐसा मंदिर है जहां लोगों को प्रसाद में आभूषण बांटे जाते है। जी हां ये आपको मजाक लग सकता है लेकिन ये सच है। मंदिर की ऐसी मान्यता है कि यहां पर जो भी भेंट के रुप में चढ़ाया जाता है वो उसी साल के अंत में दोगुनी हो जाती है। खासतौर पर दीवाली के समय इस मंदिर में खूब भीड़ होती है। दीवाली से पहले लोग यहां पर पूरी श्रद्धा के साथ नोटों की गड्डियां और आभूषण लेकर आते हैं। उस दौरान इन नोटों की गड्डियां और आभूषण को मंदिर में ही रख लिया जाता है। साथ ही इसकी बकायदा एंट्री भी की जाती है और टोकन भी दे दिया जाता है। भाई दूज के बाद टोकन वापस देने पर इसे वापस भी लिया जा सकता है।

mahalaxmi temple

दीवाली में सजाया जाता है मंदिर

विशाल महालक्ष्मी के इस मंदिर को दीवाली के समय खूब सजाया जाता है। बताया जाता है कि इस मंदिर में लगे आभूषणों की कीमत 100 करोड़ रुपए है। यहां कि सजावट को देखकर लगता है कि इतना सारा धन मंदिर को दान में मिलता है लेकिन आपको विश्वास नहीं होगा कि धन मंदिर को दान में नहीं बल्कि सजावट के लिए श्रद्धालु देते हैं, जो उन्हें बाद में वापस कर दिया जाता है।

mahalaxmi temple

प्रसाद में मिलते हैं आभूषण

दीवाली में बाद जो भी भक्त इस मंदिर में दर्शन के लिए जाता है उसे प्रसाद के रुप में आभूषण दिए जाते हैं। साथ ही नकदी भी दी जाती है। इस प्रसाद को लेने के लिए भक्त दूर-दूर से यहां पर आते हैं। भक्तों का कहना हा कि वे इस प्रसाद को शगुन मानकर कभी भी खर्च नहीं करते हैं बल्कि संभालकर रखते हैं।

mahalaxmi temple

धनतेरस के दिन खुलते हैं कपाट

महालक्ष्मी के इस मंदिर के कपाट साल में केवल एक ही बार खुलते हैं और ये शुभ दिन होता है धनतेरस का। धनतेरस के दिन ब्रह्म मुहूर्त में इस मंदिर के कपाटों को खोल दिया जाता है। इस दिन कपाट खुलने के बाद दिवाली के बाद तक ये तकपाट खुले रहते हैं। पांच दिन तक इस, मंदिर में दीवाली के पर्व का धूमधाम के साथ मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस मंदिर में जो भी अपने आभूषणों को महालक्ष्मी के श्रंगार के लिए लाता है उसके घर में सुख समृद्धि बनी रहती है। मंदिर में महिलाओं के प्रसाद के रुप में श्रीयंत्र, सिक्का, कौड़ियां, अक्षत, कंकूयुक्त कुबेर पोटली दी जाती है, जिन्हें घर में रखना शुभ माना जाता है।

mahalaxmi temple

कहीं नहीं है ऐसा मंदिर

कहा जाता है कि पूरे भारत देश में ऐसा कोई भी मंदिर नहीं है जहां पर सोने-चांदी के आभूषणों, हीरों-जवाहरातों व नकद राशि से महालक्ष्मीजी का श्रृंगार किया जाता है। इस मंदिर की खासियत ये है कि आज तक भक्तों के द्वारा लाए गए लाखों के आभूषण इधर से उधर नहीं हुए हैं। एक समय के बाद भक्तों को ये वापस कर दिए जाते हैं।

Ashtha Awasthi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned