राजस्थान पुलिस पर गोली चलाने वाले एसआई बंदवार व दीपक को मिली जमानत

राजस्थान पुलिस पर गोली चलाने वाले एसआई बंदवार व दीपक को मिली जमानत

Sourabh Pathak | Publish: Apr, 17 2019 11:09:59 AM (IST) Ratlam, Ratlam, Madhya Pradesh, India

राजस्थान पुलिस पर गोली चलाने वाले एसआई बंदवार व दीपक को मिली जमानत

रतलाम। राजस्थान के गोगुंदा पुलिस पर फायर करने वाले मध्यप्रदेश के रतलाम पुलिस में सायबर सेल इंचार्ज रहे वीरेंद्रसिंह बंदवार व दीपक अग्रवाल को मंगलवार को जमानत मिल गई। राजस्थान की पुलिस ने दोनों के जमानत आवेदन पर आपत्ति दर्ज कराई थी, जिसे न्यायालय ने खारिज कर दिया और इन्हे जमानत का लाभ देकर छोड़ दिया गया।

 

न्यायालय ने कहा कि रतलाम के पुलिसकर्मी निजी वाहन चालक के साथ उदयपुर आए थे। इसकी मध्यप्रदेश के उच्चाधिकारियों को जानकारी थी। इसके अलावा गोगुंदा थाना पुलिस ने दर्ज रिपोर्ट में भी लिखा कि वे सादावर्दी में नाकाबंदी कर रहे थे, ऐसे में जमानत लेना न्यायोचित है। रतलाम पुलिस के एसआई वीरेंद्रसिंह व दीपक अग्रवाल की ओर से अधिवक्ता रवींद्र सिंह हिरण ने जमानत याचिका पेश की थी। सिंह ने दलील दी कि गोगुंदा में पुलिसकर्मियों ने एसआई व व्यवसायी के साथ मारपीट कर हड्डियां तोड़ दी और गाड़ी का कांच फ ोड़ दिया।

 

निजी वाहन से आई थी उदयपुर
न्यायालय में दी गई दलील में यह भी बताया गया कि मध्यप्रदेश की पुलिस निजी वाहन से ही उदयपुर आई थी, जिसके बारे में वहां के उच्चाधिकारियों को जानकारी थी। सभी ने अपनी आमद भी सूरजपोल थाने में करवाई थी। घटना के वक्त गोगुंदा थाना के पुलिसकर्मी लाल रंग की बिना नंबर की गाड़ी में सादे वस्त्रों में थे। लोक अभियोजक राजेंद्रसिंह राठौड़ ने कहा कि आरोपी पुलिसकर्मियों को देखकर यूटर्न होते हुए भागे थे। पुलिस को अंदेशा होने पर उनका पीछा किया था। इस दौरान आरोपियों ने पुलिस पर फ ायर भी किया। इस कारण इन्हें जमानत पर नहीं छोड़ा जाना चाहिए।

 

थाने पर आमद से बचे अधिकारी
जिला एवं सेशन न्यायालय के पीठासीन अधिकारी रवींद्र कुमार माहेश्वरी ने सुनवाई के बाद माना कि 30 मार्च की रात को एसआई वीरेंद्रसिंह, एसआई अमित शर्मा, प्रधान आरक्षक शिवनारायण नामदेव, आरक्षक हिम्मतसिंह, जुझार सिंह व मनमोहन शर्मा उदयपुर आए थे। सभी ने सूरजपोल थाने में आमद करवाई थी। घटना के बाद कंट्रोल रूम को एसआई अमित शर्मा ने कॉल कर सूचना दी थी। अदालत ने कहा कि पुलिसकर्मी निजी वाहन से चालक के साथ उदयपुर आए थे और इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को दी थी। न्यायालय ने सुनवाई के बाद जमानत याचिका को स्वीकार किया।

 

ये था मामला
एसआई बंदवार व उसके साथी दीपक अग्रवाल ने 30 मार्च को पुलिस की नाकाबंदी देखकर गाड़ी को यू टर्न कर गलत दिशा में दौड़ा दी थी। पुलिस ने पीछा किया तो एसआई बंदवार ने पुलिस फ ायर कर दिया था। इसमें गोली गोगुंदा थाने के आरक्षक हंसराज मीणा के पैर में लगी थी। उसके बाद भी इनके द्वारा गाड़ी नहीं रोकी गई थी। पुलिस ने जब घेराबंदी कर उन्हे पकड़ा तो एसआई बंदवार व गोगुंदा थाना पुलिस में गुत्थमगुत्थी हुई और एसआई बंदवार ने छूटने का प्रयास किया। इसमें गोगुंदा थानाधिकारी धनपतसिंह को चोटें आई थी। पुलिस ने बंदवार व दीपक के खिलाफ जानलेवा हमले का मामला दर्ज किया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned