धोलावाड़ में कैनाल खोदकर पानी को जैकवेल तक लाने का काम शुरू

धोलावाड़ में कैनाल खोदकर पानी को जैकवेल तक लाने का काम शुरू

Yggyadutt Parale | Updated: 04 Jun 2019, 05:37:07 PM (IST) Ratlam, Ratlam, Madhya Pradesh, India

धोलावाड़ में कैनाल खोदकर पानी को जैकवेल तक लाने का काम शुरू

रतलाम। नागरिकों को ग्रीष्म ऋतु में पर्याप्त मात्रा में पेयजल उपलब्ध हो व इस कार्य में किसी प्रकार की रूकावट ना आए इस उद्देश्य से महापौर डॉ. सुनीता यार्दे ने जलकार्य एवं सीवरेज समिति प्रभारी प्रेम उपाध्याय, सामान्य प्रशासन समिति प्रभारी ताराचन्द पंचोनिया व निगम अधिकारियों के साथ धोलावाड़ व मोरवानी फिल्टर प्लांट का निरीक्षण कर पर्याप्त पेयजल की उपलब्धता के लिए सजग रहने के निर्देश संबंधितों को दिए।
धोलावाड़ में पानी का जलस्तर कम होने से कैनाल खोदकर पानी को जैकवेल तक लाने व जैकवेल से मड पम्प द्वारा नवीन इन्टकवेल तक पानी पहुंचाने के कार्य का अवलोकन महापौर डॉ. सुनीता यार्दे ने कर निर्देशित किया कि प्रतिवर्ष पानी का जलस्तर कम होने पर आने वाली समस्या के स्थायी समाधान हेतु नवीन इन्टकवेल निर्माण की कार्ययोजना शीघ्र तैयार कर प्रस्तुत की जाए। महापौर डॉ. यार्दे ने पुराने इन्टकवेल पर किए गए रिस्टोरेशन कार्य का निरीक्षण कर किए गए कार्य पर संतोष प्रकट किया साथ ही उन्होंने धोलावाड़ के बुस्टर पप हाउस का भी निरीक्षण किया।

इसके अलावा महापौर डॉ. यार्दे ने मोरवानी फिल्टर प्लांट, रेस्ट हाउस, फिल्टर प्लांट आदि के चल रहे रिस्टोरेशन कार्य का निरीक्षण किया व उपस्थित अधिकारी एवं कर्मचारियों को निर्देशित किया नागरिकों को पर्याप्त मात्रा में पेयजल उपलब्ध हो इस हेतु प्रत्येक अधिकारी एवं कर्मचारी अपने कार्य के प्रति सजग रहें। निरीक्षण के दौरान कार्यपालन यंत्री सुरेशचन्द्र व्यास, उपयंत्री सत्यप्रकाश आचार्य, बीएल चौधरी के अलावा जनक नागल आदि उपस्थित थे।

धोलावाड़ में प्रायवेट पॉकलेन से कैनाल खुदाई
नगर निगम द्वारा सोमवार को धोलावाड़ में पानी का जलस्तर कम होने से कैनाल खोदकर पानी को जैकवेल तक लाने व जैकवेल से मड पम्प द्वारा नवीन इन्टकवेल तक पानी पहुंचाने के कार्य का शुरू किया गया। लेकिन यहां पर लगाई गई प्रायवेट पॉकलेन मशीन जनचर्चा का विषय बन गई है। क्योंकि नगर निगम के पास स्वयं की पॉकलेन मशीन होने के बावजूद प्रायवेट किराये पर मशीन लगाकर काम करवाना चर्चा का विषय बना रहा। बताया जाता है कि १२ घंटे मशीन द्वारा काम करवाया गया। कार्यपालन यंत्री सुरेशचंद्र व्यास का कहना है कि निगम की पॉकलेन मशीन धोलावाड़ में काम नहीं कर सकती थी, उसके लिए अनुभवी व्यक्ति की जरुरत होती है, क्योंकि जगह ऐसी ही है और मशीन से निगम में नाले का काम भी चल रहा है।

इनका कहना...

नगर निगम की पॉकलेन है, लेकिन वह नाला निर्माण और जुलवानिया में चल रही थी, इसलिए प्रायवेट मंगवाकर काम किया गया। १२ घंटे चली पॉकलेन, ६.३० से ६.३० बजे तक हुआ काम।
सुरेशचन्द्र व्यास, कार्यपालन यंत्री नगर निगम रतलाम

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned