scriptThe resolution of eight characters fulfilled after 75 years | आठ किरदारों का संकल्प 75 साल बाद पूरा | Patrika News

आठ किरदारों का संकल्प 75 साल बाद पूरा

locationनई दिल्लीPublished: Jan 22, 2024 01:42:25 am

Submitted by:

ANUJ SHARMA

22-23 दिसंबर 1949 को मूर्ति प्रकटीकरण के साथ रखी गई थी राम मंदिर मुद्दे की नींव

 

 

आठ किरदारों का संकल्प 75 साल बाद पूरा
आठ किरदारों का संकल्प 75 साल बाद पूरा
अयोध्या. अयोध्या में प्रभु राम की प्राण-प्रतिष्ठा के साथ करोड़ों लोगों का सपना साकार हो जाएगा। अयोध्या में सोमवार को रामलला विराजेंगे तो उन आठ प्रमुख किरदारों का संकल्प भी पूरा होगा, जिन्होंने 75 साल पहले श्रीराम जन्मस्थल पर विशाल मंदिर का संकल्प लिया था। 1949 तक हिंदुओं ने इस स्थल की मुक्ति के लिए 76 युद्ध लड़े। पर, जिस लड़ाई के बाद मंदिर निर्माण की नींव पड़ी, उसकी पटकथा 22-23 दिसंबर, 1949 को अयोध्या में लिखी गई।
बताया जाता कि ऐतिहासिक दस्तावेजों में अयोध्या के राम मंदिर का जिक्र सुनकर पांच लोगों ने मंदिर मुक्ति का सपना देखा था। ये पांच लोग गोरखपुर पीठ के महंत दिग्विजय नाथ, अयोध्या के महंत अभिराम दास, बाबा राघव दास, रामचंद्र परमहंस और हनुमान प्रसाद पोद्दार थे। पोद्दार वही हैं जिन्होंने हिंदू धर्मग्रंथों को सरल भाषा और सस्ती कीमत पर उपलब्ध कराने के लिए गीता प्रेस गोरखपुर की स्थापना की। किताबों और पत्रकारों के मुताबिक इन्हीं पांच लोगों ने 22 दिसंबर 1949 की रात सरयू में स्नान कर संबंधित स्थल पर बालस्वरूप श्रीराम की मूर्ति की पूजा कर प्राण प्रतिष्ठा की।
इस सपने को पूरा करने में तीन लोग और जुड़े। इस घटना के समय केके नैयर फैजाबाद के जिलाधिकारी और ठाकुर गुरुदत्त सिंह सिटी मजिस्ट्रेट थे। प्राण प्रतिष्ठा की जानकारी होने पर मुस्लिम पक्ष ने विरोध किया तो दोनों बतौर प्रशासनिक अधिकारी इस स्थान को कुर्क कर लिया। बाद में गोपाल सिंह विशारद और रामचंद्र परमहंस ने फैजाबाद के सिविल जज के यहां मुकदमा कर मांग की कि दूसरे पक्ष को पूजा-अर्चना में बाधा डालने से रोका जाए। न्यायालय ने पूजा का आदेश दिया। इसके बाद मंदिर तोडऩे के घटनाक्रम की किताब छपवाई और लोगों को बांटी जाती रही। इन पांचों लोगों ने जगह-जगह सभाएं कर लोगों को जगाने की कोशिश शुरू की। इसके बाद लोग जुड़ते रहे और कारवां बनता गया।

ट्रेंडिंग वीडियो