पत्रिका अमृतम् जलम् : बिछिया में अब बाणसागर का पानी छोड़ा जाएगा, प्रदूषण का दंश झेल रही नदी होगी निर्मल

पत्रिका अमृतम् जलम् : बिछिया में अब बाणसागर का पानी छोड़ा जाएगा, प्रदूषण का दंश झेल रही नदी होगी निर्मल
amritam jalam Bichia River will no longer be polluted, clear stripes

Mrigendra Singh | Updated: 04 Jun 2019, 09:18:48 PM (IST) Rewa, Rewa, Madhya Pradesh, India

पत्रिका अमृतम् जलम् मुहिम से आगे आया प्रशासन
- निगम आयुक्त की मांग पर संभागायुक्त ने जलसंसाधन के अधिकारियों को दिया निर्देश

रीवा। शहर की बिछिया नदी में बढ़ते प्रदूषण को दूर करने अब बाणसागर बांध का पानी इस पर छोड़ा जाएगा। जिससे नदी की धार एक बार फिर बढ़ेगी और प्रदूषण कम होगा। पत्रिका अमृतम् जलम् अभियान से प्रशासन आगे आया और उपरोक्त निर्णय लिया। पत्रिका ने यह मुद्दा उठाया तो इसके लिए नगर निगम आयुक्त ने संभागायुक्त डॉ. अशोक भार्गव के सामने मांग रखी थी।

जिस पर उन्होंने जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर निर्देशित किया कि क्योंटी नहर का पानी बिछिया नदी में छोड़ा जाए। इसके लिए बुधवार से ही पानी छोडऩे का निर्देश दिया है। विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि दो दिन के भीतर नदी की धार तेज हो जाएगी। बिछिया नदी में अब तक जो पानी है, वह नदी के स्वयं के स्त्रोत का नहीं है। बाणसागर का पानी जो बीहर नदी में आता है वह किले के पास राजघाट संगम से बिछिया की ओर भी जाता है। इसलिए नदी में इनदिनों पानी की धार उल्टी दिशा से आती है।

पानी स्थिर होने की वजह से नदी में प्रदूषण तेजी के साथ बढ़ा है। जलकुंभी और काई की मात्रा बढ़ी है। कुछ हिस्सों का पानी उपयोग के योग्य नहीं है। नदी में शहर के कई गंदे नाले मिलते हैं, जिसमें नालियों से जाने वाला गंदा पानी नदी में रहता है। अब इसकी धार बहने लगेगी तो पानी भी निर्मल हो जाएगा। नगर निगम आयुक्त सभाजीत यादव ने बताया कि पत्रिका ने बिछिया नदी सफाई अभियान शुरू किया और उनकी मांग पर संभागायुक्त ने जलसंसाधन के अधिकारियों को नदी में बाणसागर का पानी छोडऩे का निर्देश दिया है। इससे पानी साफ होगा।

- गंदे पानी को फिल्टर कर शहर में हो रही सप्लाई
शहर के नालों का पानी बिछिया नदी में जाता है और अखाड़घाट के पास वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के इंटकवेल से गंदा पानी रानीतालाब प्लांट पर जाता है। उसी पानी को फिल्टर कर शहर के कई मोहल्लों में भेजा जाता है। कई बार बीहर नदी का पानी बंद होने से केवल नालों का पानी ही प्लांट तक पहुंचता है, पूर्व में निगम की ओर से नालों को ट्रेप करने का प्रयास किया गया था लेकिन अधिक समय तक इस योजना पर काम नहीं हुआ।


- पत्रिका अमृतं-जलम् से नदी को निर्मल करने लिया था संकल्प
पत्रिका द्वारा चलाए गए अमृतं-जलम् अभियान के तहत बिछिया नदी की सफाई की शुरुआत संभागायुक्त डॉ. अशोक भार्गव और नगर निगम आयुक्त सभाजीत यादव की मौजूदगी में हुई थी। उसी दौरान सबने मिलकर नदी को निर्मल बनाने का संकल्प लिया था। इसी दिशा में दोनों अधिकारियों ने नदी की धारा का प्रवाहमान बनाने के लिए प्रयास किया और अब बाणसागर का पानी इसमें छोडऩे के निर्देश जारी हो गए हैं। इससे नदी में मौजूद कचरा बह जाएगा और पानी निर्मल होगा। पत्रिका की मुहित रंग लाई अब शहर के बड़े हिस्से को नालों का फिल्टर किया हुआ पानी पीने की जरूरत नहीं होगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned