लॉक डाउन का डर: आटो से घर के लिए निकले प्रवासी, ट्रक की टक्कर से तीन की मौत

गढ़ थाने के कटरा में देर रात हुआ हृदय विदारक हादसा, महाराष्ट्र से जा रहे थे यूपी

By: Shivshankar pandey

Published: 13 Apr 2021, 08:24 AM IST

रीवा। कोरोना वायरस का संक्रमण पुन: फैलने के बाद काम की तलाश में गए प्रवासियों में फिर भगदड़ मच गई है और वे लॉक डाउन लगने के पूर्व ही अपने घर पहुंचने का प्रयास कर रहे है।

महाराष्ट्र से घर के लिए निकले थे प्रवासी
महाराष्ट्र से आटो में सवार होकर अपने घर के लिए निकले तीन प्रवासी मजदूरों की काल बनकर आए ट्रक की टक्कर से मौत हो गई। देर रात हादसा राष्ट्रीय राजमार्ग क्र. 30 में गढ़ थाने के कटरा के समीप हुआ। दो युवकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी जबकि एक युवक ने अस्पताल पहुंचकर दमतोड़ दिया। काम की तलाश में महाराष्ट्र गए आधा दर्जन युवक दो आटो में सवार होकर अपने घर यूपी जाने के लिए निकले थे।

ट्रक की टक्कर से हवा में उछला आटो
रात करीब डेढ़ बजे उनका आटो गढ़ थाने के कटरा के समीप पहुंचा तभी पीछे से आए तेज रफ्तार ट्रक ने आटो को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जोरदार थी कि आटो हवा में उछलकर दूर जा गिरा। उसमें सवार दो युवकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई जबकि तीसरा गंभीर रूप से घायल हो गया। दूसरे आटो में सवार उनके साथियों ने पुलिस को सूचना दी जिस पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। घायल युवक को रात में गंगेव सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया जहां उसकी हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने संजय गांधी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया।

अस्पताल में तीसरे युवक की मौत
यहां पहुंचने पर युवक ने दमतोड़ दिया। पुलिस ने मृतकों के शवों को देर रात पोस्टमार्टम के लिए मर्चुरी में रखवाया। मृतकों की पहचान विनय सिंह पिता अवधेश सिंह 23 वर्ष निवासी नौढिय़ा थाना कोरांव जिला प्रयागराज, सोनू सिंह, धमेन्द्र प्रताप सिंह निवासी प्रयागराज के रूप में हुई है। पुलिस की सूचना पर सोमवार की सुबह परिजन भी अस्पताल पहुंच गए जिन्हें पोस्टमार्टम के बाद शव सौंप दिये गये है।

मुंबई में चलाते थे आटो, लॉक डाउन लगने पर चार दिन पूर्व हुए थे रवाना
उक्त युवक मुंबई में रहकर काम करते थे। कुछ दुकानों में मजदूरी करते थे तो दो लोग आटो चलाते थे। हाल ही में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैलने लगा है ओर मुंबई में लॉक डाउन लगाने की बातें चल रही थी। गत वर्ष की तरह वे पुन: लॉक डाउन में फंसने से बचने के लिए अपने घर वापस लौट रहे थे। बसें बंद होने की वजह से वे आटो से ही घर के लिए निकल पड़े लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था।

Show More
Shivshankar pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned