बारिश होने पर पॉलिथीन का सहारा, बिल्डिंग के अंदर इस तरह काटते हैं रात

चिराहुला मंदिर में स्थित होमगार्ड का भवन जर्जर, दहशत में पुलिसकर्मी, 1/4 की गार्ड 24 घंटे करती है ड्यूटी, बारिश में खराब हो जाता है सामान

By: Shivshankar pandey

Published: 07 Jul 2019, 09:03 PM IST

रीवा। मंदिर में ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मी जर्जर भवन में रहने को मजबूर है। हालत यह है कि बारिश होने पर भवन की छत से लगातार पानी रिसता है और पूरे कमरे में पानी भर जाता है। फलस्वरूप पुलिसकर्मियों को चौतरफा मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

1/4 की गार्ड करती है ड्यूटी
जानकारी के अनुसार चिरहुला मंदिर में 1/4 की गार्ड हर समय ड्यूटी करती है। दिन व रात को मंदिर परिसर में सुरक्षा व्यवस्था संभालने के लिए होमगार्ड के कर्मचारी तैनात होते हंै। उक्त कर्मचारियों को ठहरने के लिए मंदिर के समीप ही एक बिल्डिंग दी गई है जहां वे रहते हैं। उक्त बिल्डिंग पूरी तरह से जर्जर हो गई है। हालत यह है कि बारिश होने पर पूरे कमरों में पानी भर जाता है और पुलिसकर्मियों को बैठने तक की जगह नहीं बचती है।

बारिश में खराब हो गए कपड़़े
शनिवार की रात हुई बारिश के दौरान पुलिसकर्मियों के सारे कपड़े खराब हो गए और उनको कमरे के अंदर भी पानी से बचने के लिए पॉलीथिन का सहारा लेना पड़ा। बारिश होने पर अक्सर पुलिसकर्मी कमरे से निकलकर मंदिर में चले जाते है। उक्त बिल्डिंग की छत पूरी तरह से डैमेज हो गई है। यदि किसी दिन छत धराशायी होती है तो बड़ी घटना घट जायेगी। यह भवन नगर निगम के आधीन है और उसके मरम्मत की जिम्मेदारी भी नगर निगम पर ही है। अधिकारी जिस तरह से उक्त भवन की मरम्मत को नजरअंदाज कर रहे हैं उससे शीघ्र उनकी समस्या दूर होने की उम्मीद भी नजर नहीं आ रही है।

आश्वासन में अटका मरम्मत का कार्य
उक्त बिल्डिंग की मरम्मत आश्वासन मेंं अटका है। पुलिसकर्मियों ने विभाग के अधिकारियों को भी जर्जर भवन के संबंध में जानकारी दी थी। यहां तक कि तत्कालीन मंत्री राजेन्द्र शुक्ला ने भी भवन की मरम्मत का आश्वासन दिया था लेकिन आज भी स्थिति जस की तस बनी हुई है। अनुशासन की जंजीरों में बंधे पुलिसकर्मी इस समस्या को दूर करने का प्रयास तक नहीं कर पा रहे हैं।

Show More
Shivshankar pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned