धार्मिक स्थलों को प्लास्टिक फ्री जोन बनाया जाएगा, कलेक्टर ने 30 नवंबर तक दी डेडलाइन

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के नवीन गाइड लाइन के तहत अनुरूप पर्यावरण संरक्षण के लिए आवश्यक कार्यवाही की समीक्षा के उद्देश्य से कलेक्टर इलैयाराजा टी की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई

By: Rajesh Patel

Published: 18 Oct 2020, 11:49 AM IST

रीवा. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के नवीन गाइड लाइन के तहत अनुरूप पर्यावरण संरक्षण के लिए आवश्यक कार्यवाही की समीक्षा के उद्देश्य से कलेक्टर इलैयाराजा टी की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। कलेक्ट्रेट में आयोजित बैठक में कलेक्टर ने निर्देश दिए कि धार्मिक स्थलों को प्लास्टिक फ्री जोन बनाया जाय साथ ही नगर निगम रीवा शहर के एक क्षेत्र का चयन प्लास्टिक फ्री क्षेत्र के तौर पर करें ताकि वहां पर्यावरण संरक्षण के मानकों की पूर्ति हो सके।
20 नवंबर तक निगम कार्यालय होगा प्लास्टिक फ्री
बैठक में कलेक्टर ने कहा कि 20 नवम्बर तक कलेक्टर कार्यालय व नगर निगम कार्यालय को प्लास्टिक फ्री कार्यालय बनाया जायेगा तथा कलेक्ट्रेट में वायु गुणवत्ता मॉनीटरिंग स्टेशन भी 20 नवम्बर से आरंभ हो जाएगा। उन्होंने जिले के समस्त कार्यालय प्रमुखों को निर्देश दिए कि अपने कार्यालयों को स्वच्छ, प्लास्टिक फ्री व हरा-भरा बनायें।
शहर में नदी के किनार बसाहट की होगी मैपिंग
शहर में कालोनियों से निकलने वाले कचरे के प्रबंधन, बायोमेडिकल वेस्ट तथा डयेरी को शहर से बाहर स्थापित करने एवं नदी के किनारे पौधारोपण कर नदी के पर्यावरणीय प्रवाह को नियमित किए जाने की चर्चा की गई। नदी के किनारे अवैध निर्माणों को हटाने तथा जिले के तालाबों की जियो मैपिंग किए जाने के निर्देश कलेक्टर ने बैठक में दिए।
एनजीटी की गाइड लाइन के तहत होगी कार्रवाई
बैठक में अनुपस्थित अधिकारियों को एनजीटी के निर्देशों की अवहेलना करने पर कारण बताओ नोटिस जारी किये जाने के निर्देश दिए। इस अवसर पर कमिश्नर नगर निगम मृणाल मीणा, क्षेत्रीय प्रबंधक मप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड आरएस परिहार, अधीक्षण यंत्री नगर निगम शैलेन्द्र शुक्ल सहित विभागीय अधिकारी व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी उपस्थित रहे।

Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned