जिले में अफसर और नेताओं की अनदेखी के चलते कबाड़ हो रहीं नलजल योजनाएं

जिले में अफसर और नेताओं की अनदेखी के चलते कबाड़ हो रहीं नलजल योजनाएं
State of Nal Water Scheme in Panchayats

Anil Kumar | Updated: 23 Sep 2019, 05:17:53 PM (IST) Rewa, Rewa, Madhya Pradesh, India

पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने से बंद पड़ीं 42 परियोजनाएं
जिले में अफसर और नेताओं की अनदेखी के चलते कबाड़ हो रहीं नलजल योजनाएं
जिला पंचायत की सामान्य सभा की बैठक में प्रस्तुत की गई रिपोर्ट में खुलासा

रीवा. पंचायतों में नलजल परियोजनाओं की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने और जलस्रोत असफल होने के कारण चार दर्जन से ज्यादा परियाजनाएं बंद पड़ी हैं। अधिकारियों और प्रतिनिधियों की अनदेखी के चलते ज्यादातर परियोजनाएं कबाड़ हो रही हैं। जिससे पंचायतों में पेयजल का संकट बरकरार है।

नहीं दूर हो रही समस्याएं
क्षेत्रीय अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को आवेदन देने के बावजूद ग्रामीणों की समस्याएं दूर नहीं हो रहीं। यह हम नहीं कह रहे बल्कि विभागीय अधिकारियों की ओर से प्रस्तुत की गई रिपोर्ट खुद ब खुद बता रही है। प्रतिनिधि भी बैठकों में चर्चा करने के बाद भूल जाते हैं।
जिला पंचायत को विभागीय अधिकारियों ने जानकारी प्रस्तुत की गई है। जिले में ३३३ नलजल परियोजनाएं स्थापित की गई हैं। सबसे ज्यादा रीवा और गंगेव जनपद एरिया में लगाई गई हैं। जबकि नलजल परियोजनाएं बंद सबसे ज्यादा सिरमौर और त्योंथर जनपद में हैं। रीवा जनपद के रुपौली गांव में लाखों रुपए की नलजल परियोजना जलस्रोत फेल होने के कारण बंद पड़ी है। लाखों रुपए के उपकरण कबाड़ हो रहे हैं। जिम्मेदार अधिकारी योजना पर निर्णय नहीं ले पा रहे हैं। इसी तरह गंगेव के लालगांव में जलस्रोत अफसल होने के चलते परियोजना लंबे समय से बंद है। जवा के पैरा गांव में पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण गांव में लंबे समय से जलसंकट खड़ा है। रीवा जनपद के अगडाल में नलजल योजना की पाइप लाइन लंबे समय से क्षतिग्रस्त हो गई है। कई बार ग्रामीणों ने आवेदन दिया। इसके बावजूद न तो विभागीय अधिकारी इस ओर ध्यान दे रहे हैं और न ही प्रतिनिधियों की सेहत पर फर्क पड़ रहा है।

सिरमौर सहित नगर पंचायतों में चालू नहीं हो सकी परियोजनाएं
जिले में पिछले कई साल से सिरमौर नगर पंचायत सहित आधा दर्जन से ज्यादा नगर पंचायतों में मुख्यमंत्री पेयजल योजना का निर्माण कराया जा रहा है। विभागीय अधिकारियों और निर्माण एजेंसियों की अनदेखी के चलते निर्माण अधूरा है। जिन नगर पंचायतों में निर्माण पूरा हो गया है। वहां पर अव्यवस्था के चलते चालू नहीं हो सकी है। करोड़ों रुपए की पेयजल परियोजनाएं धूल फांक रही हैं।

इन पंचायतों में क्षतिग्रस्त है पाइप लाइन
जिले में अमवा, रामकुई, भुण्डहा, उमरी, संसारपुर, घुचियरी, डगरदुआ, नर्रहा, देवगांव, रिमारी, सथिनी, माड़ौ, पल्हान, गुहिया-१३५, डढिय़ा, तिघरा, बरवाह, नगमा, खारा, जिरौंहा, सहित कुल ४२ पंचायतों में पेयजल का संकट बरकरार है। बस्ती के लोगों को पीने के पानी के लिए जद्दोजहद करना पड़ रहा है।
मऊगंज में दो दिन से मोटर पंप जला
जिले के मऊगंज नगर परिषद एरिया में मोटर पंप जल जाने के चलते दो दिन से पेयजल का संकट खड़ा हो गया है। मोहल्ले में पीने के पानी के लिए रहवासी परेशान हैं। नगर के वार्ड ४ में के पार्षद बृजेश गुप्ता ने बताया कि नगर परिषद की ओर से मोटर पंप के रिपेयरिंग के नाम पर घटिया सामग्री का उपयोग किया जा रहा है। जिससे मोटर पंप आए दिन जल जाती है। ब्रांडेट कंपनी के नाम पर बिल लगाकर कामचलाऊ मशीनरी का उपयोग किया जा रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned