निगम लापरवाह है या लाचार, दूषित पानी पीने के लिए मजबूर शहरवासी

निगम लापरवाह है या लाचार, दूषित पानी पीने के लिए मजबूर शहरवासी

Sanket Shrivastava | Publish: Sep, 03 2018 09:53:14 AM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

बारिश के दिनों में और भी दयनीय हो रही स्थिति, मजाक बनकर रह गई नगर सरकार

सागर. नगर निगम की लापरवाही कहें या लाचारी कि पिछले चार सालों से शहर की जनता दूषित पानी को पीने के लिए मजबूर है। पिछले तीन दिनों से शहर में लगातार मटमैला पानी सप्लाई किया जा रहा है। जब से बारिश का मौसम शुरू हुआ है तब से लेकर आज तक यह समस्या बनी हुई है। शनिवार और रविवार को भी शहर में जलापूर्ति होने पर नलों की टोंटियों से दूषित पानी का सामना करना पड़ा। निगम के जिम्मेदार पिछले चार सालों से सिर्फ बैठकों में ही राजघाट परियोजना को लेकर गंभीरता दिखा रहे हैं। लोगों की शिकायतों को भी अनसुना किया जा रहा है।
&गांधी चौक वार्ड निासी अंशुल गुप्ता ने बताया कि हमेशा ही मटमैला पानी सप्लाई किया जाता है। कई बार लोगों ने निगम प्रशासन से शिकायत की लेकिन इस ओर आज तक ध्यान नहीं दिया गया है। पानी की सप्लाई सही नहीं होने के कारण लोग परेशान होते हैं। कई बार लोगों ने शिकायत भी की है लेकिन निगम प्रशासन इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। पानी की समस्या से लोगों को कई प्रकार की बीमारियों का सामना भी करना पड़ रहा है। इससे लोग परेशान हो गए हैं। इस ओर ध्यान देना जरूरी है।
&वृंदावन वार्ड निवासी अभिषेक राजपूत ने बताया कि इससे बड़ा दुर्भाग्य क्या होगा कि राजघाट में एक भी कैमिस्ट नहीं। संभागीय मुख्यालय पर लाखों लोगों की जान से खिलवाड़ किया जा रहा है।
&बड़ा बाजार क्षेत्र निवासी ऋषभ कुमार ने कहा कि उपभोक्ताओं से निगम प्रशासन 30 दिन का पैसा वसूल किया जाता है लेकिन सप्लाई 15 दिन की हो रही है और उसमें भी दूषित पानी सप्लाई हो रहा है।
&तिली वार्ड निवासी कमल कोरी ने कहा कि नल खुलने के करीब 15 मिनट तक गंदा पानी आता है, जिसे मजबूरी में स्टाक करना पड़ता है। लेकिन यह पानी पीने लायक नहीं होता है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned