#Housingboard:डुप्लेक्स में जब कोई नहीं आया तो बकरियों ने जमाया डेरा, जानिए क्या है माजरा

Madan Gopal Tiwari

Publish: Dec, 08 2017 11:39:05 (IST)

Sagar, Madhya Pradesh, India
#Housingboard:डुप्लेक्स में जब कोई नहीं आया तो बकरियों ने जमाया डेरा, जानिए क्या है माजरा

इन डुप्लेक्स की हालात एेसी हो गई है कि अब तो बोर्ड के तमाम प्रयासों के बाद भी इन्हें कोई खरीदार नहीं मिल रहा है।

सागर. करीब तीन साल पहले हाउसिंग बोर्ड द्वारा मकरोनिया क्षेत्र के दीनदयाल नगर में बनवाए गए डुप्लेक्स जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण खंडहरों में तब्दील होने लगे हैं। तीन साल से लावारिस हालात में पड़े इन डुप्लेक्स की हालात एेसी हो गई है कि अब तो बोर्ड के तमाम प्रयासों के बाद भी इन्हें कोई खरीदार नहीं मिल रहा है। नतीजतन यहां पर आसपास के लोगों ने मवेशियों को बांधना शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं यहां पर तीस लाख से ज्यादा की कीमत का एक डुप्लेक्स का तो पहला तल भी बकरियों का आशियाना बन गया है। यही कारण है कि मकान खरीदने के पहले यहां पर जो भी लोग देखने आते हैं वह यहां बकरियों को देखकर मन बदल देते हैं।

हाउसिंग बोर्ड कार्यालय से मिली जानकारी अनुसार वर्ष 2013-14 में दीनदयाल में दो चरणों में मकान निर्माण कराया गया था। इस प्रोजेक्ट के तहत यहां पर 68 मकानों का निर्माण कराया गया था। जिसमें एचआईजी, एमआईजी और एलआईजी तीनों प्रकार के मकान शामिल थे। इस सभी 68 मकानों के निर्माण के लिए करीब 4.5 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट था। इन सबको जोड़ा जाए तो यहां पर एचआईजी, एमआईजी और एलआईजी मिलाकर करीब 5588 वर्गफीट में कुल 8 डुप्लेक्स हैं, जिनको बचने के लिए बोर्ड ने 98 लाख कीमत रखी है।

खरीददार न मिलने का यह भी एक कारण
मकरोनिया क्षेत्र में मकान-प्लाट और अन्य जमीन संबंधी कार्य करने वाले लोगों से जब इन डुप्लेक्स को लेकर बात की गई तो उनका कहना था कि बोर्ड द्वारा रखी गई कीमत काफी ज्यादा है। यही कारण है कि इन्हें खरीददार नहीं मिल रहे हैं। यहां पर लोग इन खंडहरों को खरीदने से बेहतर एक प्लाट लेकर मकान तैयार कराएगा तो वह सालों तक टिकेगा। बोर्ड द्वारा बनाए गए मकानों के निर्माण भी गुणवत्तापूर्ण नहीं है और उसके बाद सालों से लावारिस पड़े रहने के कारण खंडहर जैसी स्थिति भी बन चुकी है।

ये डुप्लेक्स बन रहे खंडहर
01. यहां पर एक एचआईजी-15, यह एक डुप्लेक्स हैं, जिसका क्षेत्रफल करीब 1450 वर्गफीट है। इसे बेचने के लिए हाउसिंग बोर्ड ने 30.42 लाख रुपए कीमत रखी है, लेकिन इसकी हालात यह है कि यहां आसपास के लोगों ने बकरियां बांधना शुरू कर दिया है।
02. एमआईजी-181 व 198 डुप्लेक्स करीब 850 वर्गफीट में हैं। इनकी कीमत 15.41 व 15.75 लाख रखी है।
03. यहां पर सबसे ज्यादा पांच एलआईजी हैं जो 450 से 500 वर्गफीट के करीब एरिया है। इनके लिए बोर्ड ने 7.24 से 7.35 लाख तक बेचने कीमत रखी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned