मुरम और मिट्टी से भर दिए गड्ढे, उड़ती धूल बनी मुसीबत

मुरम और मिट्टी से भर दिए गड्ढे, उड़ती धूल बनी मुसीबत

manish Dubesy | Publish: Sep, 12 2018 06:05:57 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

लापरवाही विभाग पर की जांच ही नहीं हो रही

शहर की अधिकतर सड़कें बेहाल, धूल के साथ कंकड़ बने दुर्घटना का कारण
सागर. बीते दिनों लगातार हुई बारिश ने शहर की सड़कों की पोल खोलकर रख दी है। शायद ही शहर की एेसी कोई सड़क होगी जिस पर सुगम यातायात हो रहा हो। बारिश के दौर में उखड़ी इन सड़कों के गड्ढ़ों से तो लोग पहले ही परेशान थे, लेकिन अब उन गड्ढों को भरने के लिए बिछाई गई मुरम-मिट्टी की चादर राहगीरों के लिए मुसीबत बन रही है। मुरम-मिट्टी और उखड़ी सड़क पर बिखरी बारीक गिट्टी के सूखने के बाद उड़ रहे ककरीली धूल के गुबार परेशानी का सबब बन गई है। इस धूल के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है।
इन सड़कों के हैं बुरे हाल
शहर में वैसे तो अधिकांश सड़कें पर धूल के गुबार उड़ रहे हैं, लेकिन कुछ सड़कों की स्थिति बद से बदतर हो चुकी है। इसमें सिविल लाइन से मकरोनिया जाने वाली सड़क, सिविल लाइन चौराहे से कालीचरण चौराहे की ओर, १०८ टीए बटालियन वाली सड़क, संजय ड्राइव रोड, तहसीली रोड आदि की स्थिति बेहद खराब है। इनमें से कुछ सड़कों की मरम्मत तो स्थानीय निकायों को करवानी है तो कुछ सड़कें पीडब्ल्यूडी के हिस्से की हैं, लेकिन किसी का ध्यान सड़कों के सुधार की ओर नहीं है।
हालत खराब हो रही है
मैं रोज मकरोनिया होते हुए परसोरिया तक जाता हूं। फेस कवर करने के बाद भी हालत खराब हो रही है। सबसे ज्यादा दिक्कत आंखों में होती है। ककरीली धूल होने के कारण आंखों में दर्द होने लगा है।
अजय पटेल, स्कूल संचालक
आंखों में दर्द होता है
सप्लाई का काम होने के कारण मुझे शहर में हर जगह जाना होता है। पहले तो सुबह से लेकर शाम तक घूमता रहता था, लेकिन अब धूल के कारण आंखों में दर्द और थकान होने लगती है।
जय मिश्रा, डीलर, खाद्य सामग्री

Ad Block is Banned