भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को काले झंडे दिखाने की कोशिश, पुलिस से बहस

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को काले झंडे दिखाने की कोशिश, पुलिस से बहस

Nitin Sadafal | Publish: Sep, 03 2018 10:11:42 AM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

एसटी-एसटी एक्ट का विरोध कर रहे थे सपाक्स कार्यकर्ता

सागर. एसटी-एससी एक्ट के विरोध में सामाजिक संगठन सपाक्स के कार्यकर्ताओं ने जिला भाजपा कार्यालय पहुंचकर प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को काले झंडे दिखाने की कोशिश की।
वे जिला भाजपा कार्यालय परिसर में नारेबाजी करते हुए घुस गए और राकेश सिंह बाहर आएं-बाहर आएं... की नारेबाजी करने लगे। कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन को देख पुलिस तत्काल एक्शन में आई और कार्यकर्ताओं को परिसर के बाहर किया।
इस दौरान कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच बहस भी हुई। हालांकि जब यह प्रदर्शन चल रहा था तब प्रदेश अध्यक्ष कार्यकर्ताओं की बैठक ले रहे थे। बैठक में पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव, सांसद लक्ष्मीनारायण यादव, विधायक शैलेंद्र जैन, प्रदीप लारिया, महापौर अभय दरे समेत अन्य नेता शामिल थे।

संवेदनशील मामला, नहीं होनी चाहिए राजनीति : सिंह
एसटी-एससी एक्ट पर भाजपा का क्या स्टेंड है, यह बात मीडिया ने प्रदेश अध्यक्ष सिंह से जाननी चाही। उन्होंने कहा कि यह एक संवेदनशील विषय है। इसमें किसी भी प्रकार से राजनीति नहीं होनी चाहिए। इस मामले में सोच-समझकर कुछ भी कहना होगा, इसलिए अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी। इस पर राजनीति से हटकर चर्चा होनी चाहिए। प्रदर्शनकारियों को थाने में नजरबंद कियाभाजपा कार्यालय पहुंचकर प्रदर्शन करने वाले कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लेकर मोतीनगर थाना में नजरबंद कर दिया। कार्यकर्ता भरत तिवारी का कहना है कि वे शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रहे थे और विरोध दर्ज कराने का यह उनका संवैधानिक अधिकार है।

विधायकों के काम से खुश, प्रत्याशी का फॉर्मूला अलग: राकेश सिंह
जिले की आठों विधानसभा सीटों पर भाजपा की जीत पक्की है। सागर समेत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जनआशीर्वाद यात्रा में भारी संख्या में लोगों की भीढ़ उमड़ रही है, जिससे यह बात भी तय है कि भाजपा प्रदेश में 200 से ज्यादा सीटें जीतकर सरकार बनाएगी। यह बात रविवार को पत्रकारवार्ता में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कही। उनसे पूछा गया कि जिले में वर्ष-2013 के प्रत्याशी क्या दोबारा रिपीट होंगे? तो उन्होंने युवाओं व महिलाओं को इस बार ज्यादा तबज्जो देने की बात कही। इसके पूर्व उन्होंने जिले के सभी सात भाजपा विधायकों के कामकाज पर संतुष्टि की मुहर लगाई थी, लेकिन जब उनसे इस बार भी उन्हीं प्रत्याशियों को मैदान में उतारने की बात जानना चाही तो उन्होंने बात को घुमा दिया। सिंह ने प्रदेश में कांग्रेस व बसपा के गठबंधन को लेकर कहा कि भाजपा को इससे कोई खतरा नहीं है। भाजपा के कार्यकर्ता इस गठबंधन पर भारी पड़ेंगे, क्योंकि भाजपा कार्यकर्ता दिल-जान से चुनावों में काम करता है और जनता के बीच रहता है। उन्होंने हर विधानसभा में दावेदारों की संख्या बढ़ जाने के प्रश्न पर कहा कि यह बात संगठन के लिए अच्छी है कि उनके पास विधायक के कद के एक नहीं बल्कि कई योग्य उम्मीदवार हैं।

Ad Block is Banned