हफ्ते भर बाद आते हैं नल फिर भी नहीं मिल पाता पानी, जानिए वजह

हफ्ते भर बाद आते हैं नल फिर भी नहीं मिल पाता पानी, जानिए वजह

Manish Kumar Dubey | Publish: Apr, 17 2019 02:04:25 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 02:04:26 PM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

सालों से जलसंकट, लेकिन नहीं चेते जिम्मेदार

तालाब सूखा, हैंडपंपों पर लग रही कतार, टैंकर के भरोसे लोग, नल के समय हो जाती है बत्ती गुल
बंडा. गर्मी की शुरुआत होते ही नगर में त्राहि-त्राहि मच गई है। बंडा नगर में 15 वार्ड हैं।
इन वार्डों के निवासियों को नगर परिषद समय पर पानी उपलब्ध नहीं करा पा रही है। नगर में पानी के लिए छोटे-छोटे बालक बालिकाएं एवं एवं पुरुष किसी तरह हैंड पंपों से पानी भरते नजर आ रहे हैं। अप्रैल के महीने मेंं पानी की किल्लत कोई नहीं बात नहीं है कई साल से यहां कभी फरवरी तो कभी मार्च में ही जल संकट गहरा जाता था। पानी की समस्या का नवंबर दिसंबर में नगर परिषद के अधिकारी कर्मचारियों द्वारा सक्रियता बरती जाती तो इस प्रकार पानी की समस्या नहीं बनती। ना ही बंडा नगर में स्थित तालाब की ओर किसी जनप्रतिनिधि या अधिकारी का ध्यान नहीं जाता है।
पुष्पेंद्र अहिरवार, सुरेंद्र रजक, नेहा रजक ने बताया कि नगर के जनप्रतिनिधि सालों से विकास के दम पर वोट पाते हैं लेकिन वोट मिलने के बाद जन समस्या से दूर हो जाते हैं. कई घर तीन मंजिला है जहां पर पानी पहुंचता ही नहीं है, कई बार बिजली मोटरें भी फेल हो जाती हैं और कई बार लाइट की आंख मिचौनी का खामियाजा लोगों को भोगना पड़ता है।

टैंकर के भरोसे
कई लोग जिनके घर पर पानी नहीं पहुंचा है ने बताया कि नलों का कोई समय नहीं है कई बार तो हफ्ते भर बाद नल आते हैं ऐसे में टैंकर को खरीदना पड़ता है। टैंकर भी नपा का नहीं पहुंचता तो ज्यादा पैसे देकर व्यवस्था करना पड़ती है। इस बात को लेकर लोगों में काफी
नाराजगी है। लोगों ने बताया कि जल स्रोत सूख गए हैं इसे बचाने के लिए कोई पहल न करने का नजीता जल संकट है।

पानी की समस्या को सुलझाने में लगे हुए हैं। कोशिश है कि लोग परेशान न हों।
निशांत श्रीवास्तव, सीएमओ

आचार संहिता लगे होने के कारण मैं कुछ नहीं कर सकता हूं जो भी करेगा चुनाव आयोग ही करेगा मैं नगर पंचायत सीएमओ से
बात करता हूं।
तरवर सिंह, विधायक

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned