फिल्म पदमावत के बाद अब मियां कल आना के खिलाफ उठे विरोध के सुर

फिल्म मिया कल आना पर देवबंदी उलेमाओ ने जताई नाराज़गी

By: Iftekhar

Published: 26 Jan 2018, 10:54 PM IST

सहारनपुर/ देवबन्द. फिल्म पदमावती के बाद अब एक और फिल्म मियां कल आना पर विवाद खड़ा होता नज़र आ रहा है। डायरेक्टर ने इस फिल्म में तीन तलाक के बाद हलाला के मामले पर महिला की कहानी को बड़े पर्दे पर जगह दी है। एक्टर से प्रोड्यूसर बने नवाजुद्दीन सिद्दीकी की प्रोड्यूस की गई पहली शॉर्ट फिल्म दुनिया भर के 23 इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल्स और दस पुरस्कार जीतने के बाद अब यूट्यूब पर वायरल हो रही है। नवाजुद्दीन सिद्दीकी की बतौर प्रोड्यूसर फिल्म ‘मियां कल आना’ को 18 जनवरी को यूट्यूब पर रिलीज किया गया। फिल्म की कहानी मुस्लिम समाज में व्याप्त हलाला की प्रथा को निशाना बनाकर गढ़ी गई है।

फिल्म मिया कल आना पर देवबंदी उलेमाओ ने जताई नाराज़गी

saharanpur

 

इस फिल्म में हलाला की प्रक्रिया से गुजरने वाले लोगों की व्यथा को पेश किया गया है। देवबंदी उलेमा और मजलिस इत्तेहाद-ए-मिल्लत राष्ट्रीर सचिव मौलाना अथर उस्मानी ने इस पर कड़ी प्रतक्रिया देते हुए कहा कि फिल्मों का मामला जहां तक है, चाहे उसे कोई मुस्लिम बनाए या हिन्दू वो एक अलग बात है। इसको मज़हब से जोड़कर नहीं देखना चाहिए, लेकिन फिल्म में जो हलाला का मामला दर्शा रहे हैं। हलाला का मामला शरीयत सु जुड़ा है। इस तरह के शरई मामलों को फिल्म में दिखाना या ऐसा सीन दिखाना, जिससे किसी भी समाज और वर्ग के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचती हो। इस तरह की फिल्में नहीं बनानी चाहिए। सरकार और सेन्सर बोर्ड को ऐसी फिल्मों को बहुत बारीकी से देखना चाहिए और किसी भी समाज के लोग उससे आहत हो रहे हो तो ऐसी फिल्मी की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। देवबंदी उलेमा और मजलिस इत्तेहाद-ए-मिल्लत राष्ट्रीर सचिव मौलाना अथर उस्मानी ने इस पर कड़ी प्रतक्रिया देते हुए कहा कि फिल्मों का मामला जहां तक है, चाहे उसे कोई मुस्लिम बनाए या हिन्दू वो एक अलग बात है।

 

Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned