बचपन की मोहब्बत का जवानी में साइड इफेक्ट 1 की हत्या 6 निर्दोषो को जेल, जानिए अब क्या करने जा रही पुलिस

  • कक्षा 5 से था अफेयर
  • शादी के लिए करा दी हत्या
  • निर्दोष लोगों को भिजवा दिया जेल
  • जानिए अब क्या करने जा रही है पुलिस

सहारनपुर। यह घटना किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं। यूपी के सहारनपुर में एक युवती ने अपने कथित प्रेमी संग मिलकर अपने ही ताऊ की हत्या करा दी और इस हत्याकांड में पुलिस ने तीन बाप बेटों समेत 6 निर्दोष लोगों को जेल भेज दिया। वारदात का सही खुलासा होने पर अब असली हत्यारों के चेहरे सामने आए हैं। अब पुलिस ने निर्दोष लोगों को जेल से बाहर निकलवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।
जानिए क्या है पूरा मामला देवबंद
थाना क्षेत्र के गांव मिलकपुर में 8 नवंबर को इसी गांव के रहने वाले यशपाल सिंह की बेरहमी से गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड के बाद 7 लोगों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराई गई थी और पुलिस ने इनमें से छह आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मुकदमे में अर्जुन पुत्र विक्रम, विक्रम पुत्र उमराव, विजेंद्र पुत्र किला, नीतू पुत्र विक्रम, दीपक पुत्र विजेंद्र, विनोद पुत्र कालू, अनुज पुत्र भंवर सिंह को नामजद किया था। पुलिस इनमें से अर्जुन, विक्रम, विजेंद्र, दीपक और विनोद को जेल भेज चुकी है।

जानिए कैसे हुआ खुलासा
सहारनपुर एसएसपी दिनेश कुमार पी के अनुसार नामजद कराए गए आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया था लेकिन पूछताछ करने पर ऐसी जानकारी मिली कि उन्हें द्वेष के कारण नामजद कराया गया है। इसके बाद पूरे मामले की नए सिरे से जांच कराई गई और चौंका देने वाली बातें सामने आई। पूरे मामले की पुन: जांच कराए जाने पर पता चला कि यशपाल की हत्या उसी की भतीजी ने कराई थी। हत्याकांड के पीछे कक्षा 5 से चल रहा प्रेम प्रसंग सामने आया। मृतक यशपाल सिंह की भतीजी शिवानी का मीरगपुर यानि अपने ही गांव के रहने वाले अंकुर पुत्र रविंदर चौधरी से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जानकारी मिली है कि कक्षा 5 से ही दोनों के बीच यह प्रेम प्रसंग चला आ रहा था। दोनों के बीच के संबंध पूरे गांव को पता थे और शिवानी एक बार अंकुर के साथ लापता भी हो गई थी उस दौरान दोनों को चेतावनी दे दी गई थी और दोनों अलग अलग हो गए थे लेकिन एक बार फिर से इनके बीच प्रेम के अंकुर फूटने लगे और बचपन की मोहब्बत का जवानी में जो क्लाइमेक्स सामने आया उसमें शिवानी ने अपनी ही ताऊ की हत्या करा दी। हत्या की इस वारदात को बेहद सफाई से अंजाम दिया गया और हत्या के बाद पुरानी रंजिश में गांव के ही 7 लोगों को नामजद कर दिया गया।

पूछताछ में बताई यह कहानी
पुलिस ने जब शिवानी और उसके कथित प्रेमी अंकुर पुत्र रविंद्र को गिरफ्तार किया तो दोनों ने बेहद चौंका देने वाली कहानी बताई। अंकुर ने अपने साथी मनीष राठौर के साथ मिलकर हत्या की इस वारदात को अंजाम दिया था। पूछताछ करने पर अंकुर ने बताया कि उसके और शिवानी के लंबे समय से प्रेम प्रसंग चले आ रहे थे। इन्हीं प्रेम प्रसंग को लेकर वर्ष 2012 में एक बार विवाद भी हुआ था। दोनों शादी करना चाहते थे और शिवानी ने अंकुर से कहा था कि हमारी शादी तो हो लेकिन ताऊजी शादी नहीं होने देंगे। इसी को लेकर अंकुर ने अपने साथी के साथ मिलकर यशपाल की हत्या कर दी।

अब 169 सीआरपीसी से बाहर आएंगे निर्दोष
पुलिस ने इस हत्याकांड में अब सीआरपीसी 169 की धारा का इस्तेमाल किया है। इस धारा के तहत पुलिस एक पत्र न्यायालय को लिखे गी जिसमें न्यायालय से कहा जाएगा कि इस हत्याकांड में कुछ नए सबूत सामने आए हैं और जिन लोगों को पूर्व में गिरफ्तार किया गया था वह सभी निर्दोष पाए गए हैं। इस आधार पर न्यायालय न्यायिक हिरासत में लिए गए सभी 6 आरोपियों को रिहा करेगा और इस तरह छह निर्दोष लोग जेल से बाहर आएंगे।

shivmani tyagi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned