पंजाब में 1.20 लाख बच्चों ने प्राइवेट स्कूलों को बोला टा-टा, सरकारी स्कूलों में प्रवेश

निजी स्कूल लॉकडाउन अवधि की फीस मांग रहे थे, ऑनलाइन पढ़ाई के लिए भी पैसे वसूल रहे थे

By: Bhanu Pratap

Published: 09 Jul 2020, 04:28 PM IST

संगरूर/चंडीगढ़। आखिरकार निजी स्कूलों की मनमानी को सबक मिल ही गया। पंजाब के 1.20 लाख बच्चों ने निजी स्कूलों को टा-टा बोलकर सरकारी स्कूलों में प्रवेश लिया है। इसके लिए पंजाब सरकार ने दाखिला मुहिम चलाई थी। वैसे भी निजी स्कूल लॉकडाउन अवधि की फीस मांग रहे थे। पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से भी वे केस जीत गए हैं। यह देख अभिभावकों ने बच्चों को सरकारी स्कूल में प्रवेश दिलाया है। सर्वाधिक प्रवेश प्राइमरी कक्षा में हुए हैं।

शिक्षामंत्री के जिले में सबसे कम दाखिले

सरकारी स्कूलों के दाखिले में 11.04 फीसद की वृद्धि हुई है। पंजाब के सरकारी स्कूलों में 2,59,675 बच्चों का दाखिला हुआ है। इनमें प्राइवेट स्कूलों के 1,20,590 विद्यार्थी हैं जिन्होंने सरकारी स्कूलों में दाखिला लिया है। शिक्षा विभाग ने पूरी रिपोर्ट जारी की है। खास बात यह है कि पंजाब के 22 जिलों में से शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला का गृह जिला संगरूर अंतिम पायदान पर है। मोहाली जिला 23.24 फीसद दाखिलों के साथ पहले नम्बर पर है।

क्या कहा प्रवक्ता ने

सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि सरकार की तरफ से चलाई गई योजनाओं और निःशुल्क ऑनलाइन शिक्षा की बदौलत ही अभिभावकों का रुझान प्राइवेट स्कूलों से हटा है। सरकारी स्कूलों में अंग्रेजी मीडियम में भी पढ़ाई शुरू होना, अध्यापकों की तरफ से बच्चों के घर बैठे होने के बावजूद उनसे जुड़ा रहना और निःशुल्क ऑनलाइन पढ़ाई कराने का भी लाभ मिला है।

फ्री में पढ़ाया

शिक्षा विभाग के राज्य मीडिया समन्वयक हरदीप सिद्धू ने बताया कि सरकारी स्कूलों में दाखिला बढऩे का मुख्य कारण सरकारी स्कूलों को स्मार्ट स्कूल बनाना, पढ़ाई के लिए ई-कंटेंट का इस्तेमाल, बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर, अंग्रेजी मीडियम में भी पढ़ाई शुरू करना आदि योजनाएं रही हैं। लॉकडाउन के दौरान शिक्षक जूम एप, वाट्सअप, यू-ट्यूब चैनल, फेसबुक, गूगल क्लास रूम, पंजाब एजुकेयर एप, रेडियो-दूरदर्शन, स्वयं टीवी चैनलों के जरिए पढ़ाई करवा रहे हैं। इन्हीं प्लेटफार्म का इस्तेमाल करके पढ़ाई करवाने पर मोटी फीसें प्राइवेट स्कूल मांग रहे हैं। वहीं यह सेवाएं सरकारी स्कूलों की तरफ से फ्री दी जा रही हैं। इस कारण अभिभावकों का रुझान सरकारी स्कूलों की तरफ बढ़ा है।

किस कक्षा में कितने प्रवेश

कक्षा वर्ग 2019 2020 बढ़ोतरी प्रतिशत में

प्री प्राइमरी 22556 306987 36.10

पहली से पांचवीं 848619 903339 6.45

छठी से आठवीं 574234 605000 5.36

नौवीं से दसवीं 391160 41886 17.08

11वीं से 12वीं 312534 3777600 20.82

प्रवेश के बाद जिले की ग्रेडिंग

1. एसएएस नगर - 23.24

2. लुधियाना 16.30

3. फतेहगढ़ साहिब 16.21

4. एसबीएस नगर 13.69

5. बङ्क्षठडा 2.09

6. फिरोजपुर 11.53

7. तरनतारन 11.18

8. पठानकोट 10.77

9. अमृतसर 10.03

10. जालंधर 9.91

11. मानसा 9.69

12. फाजिल्का 9.66

13. पटियाला 9.35

14. बरनाला 9.31

16. गुरदासपुर 9.22

17. मुक्तसर 9.00

18. होशियारपुर 8.87

19. कपूरथला 8.78

20. मोगा 8.74

21. फरीदकोट 8.45

22 संगरूर 8.28

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned