11 राज्यों के 50 जिलों में ‘आगरा गैंग’ कर रहा नशे का काला कारोबार, पंजाब में हर माह 10-12 करोड़ की ड्रग सप्लाई

पंजाब पुलिस ने 20 व्यक्तियों की गिरफ्तारी के बाद अंतरराज्यीय ड्रग गिरोह का पर्दाफाश किया

आगरा गैंग’ 10-12 करोड़ की नशीली दवाएँ हर माह पंजाब और देश के अन्य हिस्सों में भेज रहा था

27,62,137 नशीली गोलियाँ, कैप्सूल, टीके और सिरप बोतलों सहित 70,03,800 रुपए की ड्रग मनी जब्त

By: Bhanu Pratap

Published: 24 Jul 2020, 09:28 PM IST

चंडीगढ़। देशभर में फार्मास्युटिकल ओपिओड (नशीले पदार्थ, जिसमें हेराइन होती है, दर्ज निवारक दवा बनाने में काम आते हैं) की स्पलाई सम्बन्धी बड़ी कार्यवाही करते हुए पंजाब पुलिस ने हवाला चैनल रूट के प्रयोग द्वारा 11 राज्यों में 50 से अधिक जिलों में चल रहे एक अंतर-राज्यीय ड्रग कारटेल का पर्दाफाश किया है। आठ हफ्तों से अधिक समय तक चलाई गई इस मुहिम में 20 व्यक्तियों को पहले ही नशे की बड़ी खेप, ड्रग मनी और पाँच वाहनों के साथ गिरफ्तार किया जा चुका है।

आगरा गैंग के नाम से प्रसिद्ध

पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि ‘आगरा गैंग’ के तौर पर जाना जाता यह ड्रग कारटेल भारी मात्रा में नशीले पदार्थों को देशभर में फैले ड्रग निर्माता, सप्लायर, थोक विक्रेता और परचून केमिस्ट से लेकर भारत भर के बाजारों में भेज रहा था। अब तक गिरफ्तार किये गए 20 लोगों में से 16 पंजाब, 2 यू.पी. और एक-एक हरियाणा और दिल्ली से सम्बन्धित हैं। इस गिरोह के सदस्यों की गिरफ्तारी से नशा सिंडिकेट का एक बड़ा नेटवर्क जो 10-12 करोड़ रुपये की नशीली दवाएँ, गोलियाँ, कैप्सूल, टीके, सिरप के रूप में हर माह पंजाब और देश के अन्य हिस्सों में भेज रहा था, का पर्दाफाश हुआ है जिससे देश के हजारों नौजवानों की जिंदगी तबाह होने से बच गई।

इन पुलिस वालों की भूमिका

इस गिरोह का बरनाला पुलिस टीम ने पर्दाफाश किया है, जिसमें एसएसपी बरनाला सन्दीप गोयल की निगरानी अधीन काम कर रहे डॉ. प्रज्ञा जैन, एएसपी महल कलाँ, सुखदेव सिंह विर्क एसपी (डी), रमनिन्दर सिंह दयोल डीएसपी (डी), इंस्पेक्टर बलजीत सिंह इंचार्ज सीआईए शामिल थे। गिरोह के प्रमुख सहित 20 व्यक्तियों की गिरफ्तारी पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी बंगाल, उत्तर प्रदेश और दिल्ली के अलग-अलग स्थानों से की गई।

27,62,137 नशीली गोलियाँ बरामद

श्री गुप्ता ने बताया कि उनके पास से 27,62,137 नशीली गोलियाँ, कैप्सूल, टीके और सिरप की बोतलें बरामद की गई थीं। इसके अलावा 70,03,800 रुपए ड्रग मनी बरामद की गई। दिलचस्प बात यह है कि बरनाला पुलिस ने मार्च, 2020 में इसी तरह मथुरा गैंग का पर्दाफाश किया गया था और 44 लाख के नशीले पदार्थ और 1.5 करोड़ रुपए ड्रग मनी ज़ब्त की थी।

ऐसे खुली परतें

इसी मई महीने में बलविन्दर सिंह उर्फ निक्का पुत्र गुरजंट सिंह और चार अन्यों की 2,85,000 नशीली गोलियों (टैब कलोवीडोल) समेत गिरफ़्तारी के साथ इस मुकदमे से पर्दा उठना शुरू हुआ था, जिसके विरुद्ध एफआईआर नं. 72 तारीख़ 23.05.2020 को धारा 21,22,25,29 /61 /85 एनडीपीएस एक्ट पुलिस थाना महल कलां में दर्ज है। इसके बाद जुल्फिकार अली पुत्र मुहंमदिन को 12,000 नशीली गोलियों के साथ (टैब क्लोवीडोल) गिरफ़्तार किया गया। जुल्फिकार से पूछताछ के बाद हरीश की भूमिका का खुलासा हुआ जो पंजाब में फार्मास्यूटीकल ओपीओड्स की आमद और सप्लाई में मास्टरमाइंड में से एक है।

दो महीने की जांच और गिरफ्तारी

इन गिरफ़्तारियों के बाद, बरनाला पुलिस ने जांच, निगरानी योजनाएँ तैयार करने में दो महीने बिताए और फिर एक जाल बिछाया गया, जिसके बाद एक विशेष टीम पश्चिमी बंगाल भेजी दी जहाँ से हरीश को पकड़ा गया। हरीश ने इस गिरोह की साजिशें गढ़ने के तरीके और पंजाब समेत देश के 11 से अधिक राज्यों में सायकोट्रोपिक ड्रग्स की सप्लाई चेन संबंधी खुलासा किया। इस सम्बन्धी मुकदमा एफआईआर नं. 344 तारीख़ 13.07.2020 धारा 22, 25, 29 /61 /85 के अंतर्गत एनडीपीएस एक्ट पुलिस थाना सिटी बरनाला में दर्ज किया गया था। इसके बाद उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, पंजाब में छापेमारी की गई, जिससे बड़ी संख्या में फार्मास्यूटीकल नशीले पदार्थ, ड्रग मनी और वाहन ज़ब्त किये गए। अब तक गिरोह के काम करने के ढंग -तरीके सम्बन्धी अब तक की गई जांच से पता लगा है कि हरीश डाक्टरी प्रतिनिधि के तौर पर इन्टरनेट और सोशल मीडिया के द्वारा पता और फ़ोन नंबर जैसी जानकारी का प्रयोग करके केमिस्ट और फार्मासिस्ट्स के साथ संपर्क करता था।

हवाला माध्यम से लेन-देन

इन तस्करों ने पहले से ही दिल्ली, आगरा, अमृतसर, जयपुर, ग्वालियर और भोपाल जैसे प्रमुख शहरों में चल रहे कोरियर, ट्रांसपोर्ट, माल ढुलाई जैसे नैटवर्क का प्रयोग किया और नकली बिलों की मदद से स्थानीय ट्रांसपोर्टरों का प्रयोग करते हुए कई राज्यों के विभिन्न स्थानों पर खेपें भेजी। हवाला चैनलों का प्रयोग करके पैसों की अदायगी और लेन-देन किया गया और इस उद्देश्य के लिए नकद लेन-देन के लिए विशेष बनाए गए बैंक खाते इस्तेमाल किये गए। ज़ब्त किये गए नशीले पदार्थ ज़्यादातर फार्मास्यूटीकल ओपीओड्स हैं। इनमें से बहुत से फार्मास्यूटीकल उत्पादों की न सिर्फ जायज़ और महत्वपूर्ण डाक्टरी प्रयोग होती है बल्कि यह उत्पाद रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैकटीशनर की उचित मेडिकल सलाह से बिना नहीं बेचे जा सकते। गिरोह इन नशों का गलत ढंग से प्रयोग कर रहा था, जो कोई डाक्टरी तौर पर दर्द से राहत और ओपीओड्स की निर्भरता के इलाज के लिए अतिरिक्त मेडिकल प्रयोग के लिए इस्तेमाल की जाती हैं, इन दवाओं का ज़रूरत से अधिक प्रयोग करने से यह मौत का कारण भी बन सकता है।

पंजाब में नशों की सप्लाई को बड़ी मार पड़ी

डीजीपी ने कहा कि पंजाब पुलिस द्वारा चलाई गई मुहिम और फार्मास्यूटीकल ओपीओड्स की बड़ी बरामदगी बहुत महत्वपूर्ण है। इससे पंजाब में नशों की सप्लाई को बड़ी मार पड़ी है। भारत सरकार, नयी दिल्ली, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की तरफ से किये गए अध्ययन ‘मैगनीट्यूड आफ सब्स्टैनस यूज इन इंडिया -2019 ’ के अनुसार फार्मास्यूटीकल ओपीओड्स (जिसमें स्वयं ओपीओड्स समूह की कई किस्मों की दवाएँ भी शामिल हैं), हेरोइन के बाद भारत में सबसे अधिक इस्तेमाल किये जाने वाले ओपीओड्स (0.96प्रतिशत) हैं, जोकि भारत में सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किये जाएँ वाला ओपीओड (1.14 प्रतिशत) है। यह अंदाज़ा लगाया गया है कि फार्मास्यूटीकल ओपीओड का हानिकारक प्रयोग राज्य में ड्रग समस्या का तकरीबन 40 प्रतिशत बनता है।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned