सेना के जवान की सड़क हादसे में मौत, एक नजर में जानिए पूरा मामला

suresh mishra

Publish: Dec, 08 2017 11:01:47 (IST)

Satna, Madhya Pradesh, India
सेना के जवान की सड़क हादसे में मौत, एक नजर में जानिए पूरा मामला

इटमा का रहने वाला था जवान, जबलपुर से शव लेकर परिजन रवाना

सतना। आर्मी के इलेक्ट्रॉनिक्स एंड मेकेनिकल इंजीनियर्स कोर में पदस्थ सेना के जवान की ड्यूटी के दौरान सड़क हादसे में मौत हो गई। जबलपुर में हुए इस हादसे के बाद सेना के अफसर परिजनों के साथ शव लेकर गृह ग्राम के लिए रवाना हुए हैं। सितपुरा के इटमा के श्रीनिवास त्रिपाठी का पुत्र प्रवीण त्रिपाठी (34) आर्मी के इलेक्ट्रॉनिक्स एंड मेकेनिकल इंजीनियर्स कोर जबलपुर में पदस्थ था।

प्रवीण दो बेटी और पत्नी के साथ कैंट एरिया जबलपुर में ही रहते थे। ४ दिसंबर की रात स्कूटर से जाते वक्त सड़क दुर्घटना में घायल हुए तो उन्हें मिलिट्री के एमएच अस्पताल में दाखिल किया गया।

इलाके में शोक की लहर फैल गई

प्रवीण के सिर में गहरी चोट आने पर वह कोमा में चले गए थे। इलाज के दौरान गुरुवार की दोपहर करीब एक बजे प्रवीण की सांस थम गई। मृत्यु होने पर सेना के अफसर, प्रवीण के परिजनों के साथ शव लेकर जबलपुर से रवाना हुए हैं। इस खबर के बाद आसपास इलाके में शोक की लहर फैल गई है। शुक्रवार की सुबह करीब ६ बजे शव गृह ग्राम इटमा पहुंचेगा।

अब वरिष्ठ आरक्षक भी कर सकेंगे विवेचना
विवेचना अधिकारियों की कमी पूरी करने के लिए वरिष्ठ आरक्षकों को भी अधिकार दिए गए हैं। इस संबंध में पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला ने गुरुवार को आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश के अनुसार, मप्र शासन विधि एवं विधायी कार्य विभाग के आदेश द्वारा मप्र दण्ड प्रक्रिया संहिता १९७३ (२) की धारा १५७ की उप धारा (१) द्वारा प्रदत्त शक्तियों को प्रयोग में लाते हुए तथा पुलिस मुख्यालय के आदेश को अधिष्ठित करते हुए राज्य सरकार द्वारा एेसे समस्त वरिष्ठ आरक्षकों को जो कि समयबद्ध वेतनमान प्राप्त कर रहे हैं, उन्हें धारा के प्रयोजनों के लिए पुलिस अधिकारी घोषित किया गया है। आदेश में बताया गया है कि विवेचना अधिकारियों की कमी को दृष्टिगत रखते हुए निर्देश दिए गए हैं कि मप्र पुलिस के एेसे सभी वरिष्ठ आरक्षकों को विवेचना के अधिकार सौंपे जाएं। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू करते हुए इसके कड़ाई से पालन करने को कहा गया है।

दुष्कर्म का आरोपी गया जेल
नागौद थाना पुलिस ने नाबालिग लड़की को अगवा कर दुष्कर्म के आरोपी को गिरफ्तार किया है। गुरुवार को आरोपी रावेन्द्र पटेल (26) निवासी चकहट को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया। पुलिस के अनुसार, २३ नवंबर को आरोपी ने नाबालिग लड़की को अगवा किया और अपने साथ रीवा लेकर चला गया। सूचना मिलने पर लड़की के परिजनों की शिकायत पर पुलिस तलाश में जुटी थी। बुधवार को आरोपी ने जब लड़की को नागौद कस्बा में छोड़ा तो वह घर पहुंची। इसके बाद परिजनों से पता चलने पर पुलिस ने आरोपी की तलाश में दबिश देते हुए उसे गांव से ही पकड़ लिया। आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा ३६३, ३६६, ३७६ व ३/४ पास्को एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

एसपी से एफआईआर दर्ज करने की मांग
नयागांव थाना क्षेत्र के संस्कृत विद्यालय में पढऩे वाले छात्र की 14 माह पूर्व संदिग्ध हालातों में मौत के मामले में एफआईआर दर्ज करने की मांग एनएसयूआई ने की है। एसपी को बताया गया कि 22 अक्टूबर 2016 को शिवशक्ति द्विवेदी पुत्र सुरेन्द्र कुमार द्विवेदी (17) निवासी कल्पा थाना सिंहपुर की मौत हो गई थी। घटना से पहले छात्र की अपने परिजनों से बात हुई तो उसने परेशानी बताई थी। जब मृत्यु की सूचना पर परिजन पहुंचे तो घटना स्थल को अस्त व्यस्त कर दिया गया था। इस संबंध में पूर्व में भी आवेदन देकर घटना से जुड़े तथ्यों से पुलिस को अवगत कराया गया लेकिन अब तक गंभीरता नहीं बरती गई। जबकि मृतक के शरीर पर चोट के निशान भी थे।

आंख में मिर्च झोंककर लूट लेते थे मोबाइल, गिरफ्तार
रेलवे स्टेशन परिसर से गुरुवार तड़के एक संदिग्ध युवक को जीआरपी ने पकड़ा। तलाशी लेने पर उसके जेब से एक पुडि़या में लाल मिर्च पाउडर, रुपए और एक मंहगा मोबाइल फोन बरामद हुआ। पूछताछ हुई तो पता चला कि वह अपने एक साथी के साथ मोबाइल फोन लूटने की घटनाओं में शामिल रहा। जीआरपी चौकी प्रभारी संतोष तिवारी का कहना है कि पकड़े गए आरोपी पप्पू लोनिया पुत्र नरेश लोनिया निवासी मुख्त्यार गंज के कब्जे से मिर्च पाउडर, करीब 12 सौ रुपए नकद, एक मोबाइल फोन जब्त कर धारा ४१ (१)(४)/३७९ के तहत चोरी की आशंका की कार्रवाई की गई है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned