टाइगर-लेपर्ड स्टेट में बड़ी लापरवाही, 15 दिन में दो बाघ तोड़ चुके हैं दम

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी नहीं हुआ खुलासा, संक्रमित मांस बन रहा मुकुंदपुर के बाघों की असमय मौत की वजह

By: Hitendra Sharma

Published: 03 Jan 2021, 08:37 AM IST

सतना. महाराज मार्तण्ड सिंह जूदेव व्हाइट टाइगर सफारी और मुकुंदपुर चिडिय़ाघर में बाघों की मौत का रहस्य नहीं सुलझ रहा है। एक पखवाड़े में दो बाघों की मौत हुई है। प्रबंधन सकते में है। सफेद बाघ गोपी की मौत के बाद पूर्व मंत्री एवं रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ला ने समीक्षा की थी। उम्मीद थी कि प्रबंधन संजीदा होगा, लेकिन इसके उलट सफारी में एक ओर नर बाघ नकुल की मौत हो गई।

सूत्र बताते हैं कि सफारी में हो रही बाघों की मौत की वजह उन्हें सही भोजन न मिलना है। जिस सप्लायर को मांस पहुंचाने का जिम्मा सौंपा गया है, उसके पास न तो पशु वध की अनुमति है और न ही स्थायी स्लाटर हाउस। आशंका है कि बाघों एवं अन्य मांसाहारी वन्य प्राणियों को संक्रमित मांस सप्लाई किया जा रहा है। हालांकि दावा है कि पशु चिकित्सा विभाग मांस का परीक्षण कर रिपोर्ट जारी करता है। आशंका यह भी है कि डेयरी फार्म चलाने वाले अधिक दूध उत्पादन के लिए मवेशियों को ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन लगाते हैं। ऐसे मवेशियों का मांस जहरीला होता है। नकुल बाघ की मौत की वजहों पर सिर्फ कयास ही लगाए जा रहे हैं। वन विभाग के प्रेस नोट में मौत की वजह साफ नहीं है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से कुछ निकल कर नहीं आया

tiger.png

दो इंसानी शिकार के बाद जंगल में गुम हुआ बाघ
सिवनी के उगली वन क्षेत्र के कोपीझोला गांव के पास पिछले दिनों बाघ ने महिला और एक किशोर का शिकार किया था। हमलों के बाद लगातार वन अमला बाघ की तलाश में है, लेकिन सफलता नहीं मिली। आठ कैमरों में भी कोई हलचल रेकॉर्ड नहीं हुई है। चार गश्ती दल लगातार घूम रहे हैं, पिंजरा भी लगाया गया है। इसके बावजूद बाघ कहीं भी नजर नहीं आया है। परियोजना वनपाल रघुसिंह यादव ने कहा कि दो मौत के बाद हम बेहद सतर्क हैं। ग्रामीणों को भी अकेले निकलने की मनाही की गई है।

tiger.png

क्लच वायर लगाकर किया था तेंदुआ का शिकार, 3 गिरफ्तार
शहडोल के बुढ़ार वन विभाग ने तेंदुआ के शिकार करने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। बुढार के ग्राम कुल्हारू में 28 से 29 दिसंबर की रात तीन शिकारी तेंदुए का शिकार कर फरार हो गए थे। 1 जनवरी को आखिरकार वन विभाग ने शिकारियों को शिकंजे में लिया है। एसडीओ ओमकर गिरी गोस्वामी ने बताया कि पकरी पानी गांव के निवासी प्रभु बैगा, नर्मदा बैगा, सोभालाल बैगा ने क्लच वायर का फंदा लगातार तेंदुए का शिकार किया था।

Show More
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned