एक्सपोज- अवैध शराब के साथ पकड़े गए आरोपी को दबंग ने थाने से भगाया

थाना में पुलिस पर हावी होकर हंगामा करता रहा ढाबा संचालक, पुलिस की किरकिरी के बाद भी थाना प्रभारी ने दर्ज नहीं कराया अपराध

By: Dhirendra Gupta

Published: 23 Mar 2021, 10:48 AM IST

सतना. पुलिस मुख्यालय भोपाल के निर्देश पर नशे के अवैध कारोबार को लेकर चलाए जा रहे विशेष अभियान के तहत जिला पुलिस अवैध नशा कारोबारियों की नस तोडऩे में जुटी है। इसी कड़ी में आए दिन धरपकड़ के तहत आरोपी पकड़े जा रहे हैं और अवैध शराब, गांजा समेत नशीली दवाओं की जब्ती हो रही है। इस अभियान में कार्यवाही का ऊंचा आंकड़ा दिखाने के चक्कर में जसो थाना प्रभारी पवन राज खूब कसरत कर रहे हैं, लेकिन कार्यवाही को लेकर उनका पैमाना कुछ अलग किस्म का है। जहां एक तरफ वह महिला आरोपी के आगे कानून की धाराओं का पहाड़ा पढऩे लगते हैं, वहीं दबंगों की दहाड़ सुनते ही ढेर हो जाते हैं। जिसके चलते उनकी अच्छी खासी किरकिरी भी हो रही है। दरअसल मामला शराब पकडऩे की दो अलग कार्यवाही से जुड़ा हुआ है जहां एक कार्रवाई के बाद थाना प्रभारी पवन राज गदगद हैं और दूसरी कार्यवाही को लेकर उन्हें सांप सूंघ गया है।
यह है मामला
जसो थाना पुलिस द्वारा अवैध शराब की कार्यवाही में दो नजरी किए जाने का मामला सामने आया है। हासिल जानकारी के मुताबिक, रविवार 21 मार्च को जसो थाना प्रभारी पवन राज देहात भ्रमण पर थे तब ग्राम अमकुई में सड़क किनारे हाथ भट्ठी शराब की बिक्री महिला द्वारा किए जाने की सूचना पर उन्होंने घेराबंदी करते हुए महिला को पकड़ा। बताते हैं कि गोद में दूधमुहा बच्चा लेकर सड़क किनारे बैठी इस महिला रामफूल पत्नी संजय कोल (25) निवासी अमकुई के कब्जे से थाना प्रभारी ने 5 लीटर के गैलन में 15 सौ रुपए की हाथ भट्ठी शराब मिलने पर उसे आबकारी अधिनियम की धारा 34 (1) के तहत गिरफ्तार किया। दूसरी तरफ इसी जसो थाने के सहायक उपनिरीक्षक केसरी प्रसाद ने 22 मार्च सोमवार को ग्राम दुरेहा में धीरू सिंह के ढाबा के सामने 15 देसी एवं 16 पाव गोवा शराब के साथ दुरेहा के रहने वाले कृष्ण कुमार कुशवाहा पुत्र रामखेलावन कुशवाहा (32) को पकड़ा। जब इससे जब्ती पत्रक में हस्ताक्षर करने को कहा गया तो उसने साफ मना कर दिया। लिहाजा उसे थाने ले जाया गया। मालूम हुआ है कि कृष्ण कुमार धीरू सिंह के ढाबा में काम करता है। धीरू सिंह इलाके का दबंग है। कृष्ण कुमार के पुलिस द्वारा पकड़े जाने की खबर पाकर वह थाने में आ धमका, उसने वहां हंगामा करते हुए कृष्ण कुमार को थाने से भगा दिया। बावजूद इसके न तो कृष्ण कुमार के खिलाफ अवैध शराब का मामला पंजीबद्ध किया गया और न थाने में हंगामा करने और आरोपी को पुलिस हिरासत से भगाने के लिए धीरू सिंह पर कोई अपराध पंजीबद्ध हुआ।
थाना प्रभारी ने मना किया
सूत्रों की मानें तो सहायक उपनिरीक्षक केसरी प्रसाद ने अवैध शराब की सूचना थाना प्रभारी पवन राज से साझा करने के बाद सहायक उप निरीक्षक राजेंद्र प्रसाद तिवारी, आरक्षक मनीष सिंह एवं पुष्पेंद्र नट को साथ लेकर मौके पर दबिश देकर कृष्ण कुमार कुशवाहा को पकड़ा था। उसके पास एक खाकी रंग के कार्टून में 15 पाव देसी शराब और सफेद रंग के दूसरे कार्टून में 16 पाव गोवा ब्रांड शराब मिली थी। बताते हैं कि धीरू सिंह द्वारा थाने में हंगामा किए जाने के बाद थाना प्रभारी पवन राज ने अपराध पंजीबद्ध करने से मना कर दिया। अब यह जांच का विषय है कि थाना प्रभारी ने ऐसा क्यों किया?
सूचना संकलन वाले सुन्न
थाना में इनती बड़ी बात हो गई। शराब की अवैध खेप के साथ पकड़े गए आरोपी को थाने से भगा दिया गया और पुलिस अफसरों को खरी खोटी सुनाकर ढाबा संचालक भी चलता बना। बावजूद इसके सूचना संकलन करने वाले सिपाही ने पुलिस कप्तान तक यह बात नहीं पहुंचाई।
वर्जन....
थाना में क्या कैसा हुआ इसकी जानकारी लेकर कार्रवाही करेंगे।
- धर्मवीर सिंह, एसपी

Show More
Dhirendra Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned