कोयला उत्पादन के साथ सुरक्षा पर चर्चा

कोयला उत्पादन के साथ सुरक्षा पर चर्चा
Discussion on safety with coal production

Jyoti Gupta | Publish: Feb, 11 2019 09:30:21 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

एकेएस विवि के इंजीनियरिंग डीन डॉ. जीके प्रधान ने कुसमुंडा में आयोजित सेमिनार में लिया हिस्सा

सतना. एकेएस विवि के इंजीनियरिंग डीन डॉ. जीके प्रधान ने कुसमुंडा में आयोजित सेमिनार में हिस्सा लिया। इसमें कोयला उत्पादन के साथ सुरक्षा पर चर्चा हुई। एसइसीएल कुसमुंडा एरिया के महाप्रबंधक यूके सिंह ने कहा कि कुसमुंडा खदान से मेगा कोयला उत्पादन के लिए कम्प्यूटर टेक्नोलॉजी और आइटी प्लानिंग कारगर साबित होगी। भावी पीढ़ी को एसइसीएल कुसमुंडा एरिया में खनन तकनीक पर जानकारी देने के लिए सेमिनार का आयोजन किया गया। इंजीनियरिंग डीन डॉ. जीके प्रधान ने एसइसीएल और कुसमुंडा क्षेत्र का आभार जताते हुए कहा कि विवि के छात्रों को प्रशिक्षण में सहायता देने और उपलब्ध ज्ञान साझा करने में एसइसीएल अग्रणी रहा है। मौके पर माइनिंग विभागाध्यक्ष डॉ. बीके. मिश्रा ने विवि. में संचालित माइनिंग डिप्लोमा स्टूडेंट्स के तीन बैचों ने डीजीएमएस स्टेचुअरी सर्टिफि केट व बीटेक माइनिंग स्टूडेंट्स के 2 बैचों द्वारा प्राप्त की गई सफ लता पर चर्चा की। उन्होंने बताया कि विवि में पढ़ाए जाने वाले सभी कोर्सेस डीजीएमएस द्वारा अनुमोदित हैं। इसमें डिप्लोमा इन माइनिंग, डिप्लोमा माइनिंग एण्ड माइन सर्वेइंग, बी.टेक माइनिंग, एमटेक माइनिंग पूर्णकालिक व अंशकालिक पाठ्यक्रमों की सम्पूर्ण जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी से उत्तीर्ण अधिकतम छात्रों ने डीजीएमएस का ओवरमैन और सेकेंड क्लास सर्टिफि केट प्राप्त करके कोयला क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। आभार ज्ञापन एसके मोहंती, महाप्रबंधक खनन कुसमुंडा परियोजना द्वारा किया गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned