4 मिनट में 195 देशों के नाम उनकी राजधानी सहित बोल देती है सतना की बेटी

टैलेंट: दुबई में रहने वाली सतना की प्रानवी गुप्ता वल्र्ड रिकॉर्ड बनाने की तैयारी में

 

By: Pushpendra pandey

Published: 22 Nov 2020, 06:51 PM IST

सतना. आज के समय में बच्चे काफी टैलेंटेड हैं। इंटरनेट और टेक्नोलॉजी के जरिए वे नित नई जानकारियां हासिल कर रहे हैं और यह जानकारियां उन्हें टैलेंट से भरपूर बना रही हैं। अकसर कहा जाता है तकनीक बच्चों को बिगाड़ देती है, लेकिन इसी तकनीक का उपयोग कर भारत के सतना की मूल निवासी दुबई में रहने वाली प्रानवी गुप्ता इन दिनों दुनिया भर में छाई हुई हैं। पांच साल की यह बच्ची इन दिनों लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है और इसका कारण है उसकी अनोखी प्रतिभा। प्रानवी केवल 4 मिनट 23 सेंकेंड में दुनिया के 195 देशों के नाम उनकी राजधानी सहित बोल सकती है। अपनी इस अनोखी प्रतिभा के दम पर वह दो रिकॉर्ड अपने नाम कर चुकी है और अब गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराने के लिए आवेदन कर दिया है।

मां ने तैयार की लिस्ट
प्रानवी की मदद के लिए उनकी मां प्रियंका ने उसे विभिन्न देशों और उनकी राजधानियों के नामों की लिस्ट बनाकर दी, ताकि वह देश और उनकी राजधानियों के नाम याद कर सके। प्रानवी को 195 देशों के नाम मुंहजुबानी याद हैं और वह पहले देशों के नाम लेती है और फिर उनकी राजधानियों का नाम बताती है। प्रानवी की मां ने बचपन में ही उसकी स्मरण शक्ति को पहचान लिया था और वे तब से ही उसे नई नई चीजें सिखाती रहती हैं। अब प्रानवी अपने इस टैलेंट से चर्चा में है।

टीवी में 8 साल की बच्ची को देखकर मिली प्रेरणा
रिपोट्र्स के अनुसार, प्रानवी को देश और उनकी राजधानियों के नाम याद करने की प्रेरणा एक आठ साल की बच्ची को देखकर मिली। प्रानवी की मां प्रियंका ने बताया कि प्राणवी ने कुछ समय पहले टीवी पर एक आठ साल की बच्ची का प्रोग्राम देखा, जो अमेरिका के सभी 50 राज्यों और उनकी राजधानियों के नाम बता रही है। इसके बाद प्रानवी ने दुनिया के देशों और उनकी राजधानियों के नाम याद करने शुरू कर दिए।

दो रिकॉर्ड कर चुकी है अपने नाम
प्रानवी के पिता प्रमोद कुमार ने बताया कि जब उसने देश और उनकी राजधानियों के नाम बोलना शुरू किए, तो शुरुआत में उसे ऐसा करने में करीब 45 मिनट लगते थे और फिर यह समय घटकर 11 मिनट हो गया। अब प्रानवी को केवल 4 मिनट 23 सेकेंड लगते हैं। अपनी इस प्रतिभा के लिए प्रानवी अपना नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉड्र्स और एशिया बुक ऑफ रिकॉड्र्स में नाम दर्ज करा चुकी है।

Pushpendra pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned