पर्ची में GST नंबर सुधारा, कंपनी अभी भी गलत, यहां पढ़ें मैहर मंदिर का पूरा GST घोटाला

suresh mishra

Publish: Feb, 15 2018 04:31:47 PM (IST)

Satna, Madhya Pradesh, India
पर्ची में GST नंबर सुधारा, कंपनी अभी भी गलत, यहां पढ़ें मैहर मंदिर का पूरा GST घोटाला

मैहर शारदा देवी मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए स्थापित रोप-वे का जीएसटी फर्जीवाड़ा उलझता जा रहा है।

सतना। मैहर शारदा देवी मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए स्थापित रोप-वे का जीएसटी फर्जीवाड़ा उलझता जा रहा है। पत्रिका की खबर के बाद रोप-वे प्रबंधन ने आनन-फानन में अपनी पर्ची में जीएसटी नंबर में सुधार तो कर लिया लेकिन सुधार के बाद भी रोप-वे की पर्ची गलत है। अब जो नंबर स्लिप में दिया गया है वह दूसरी कंपनी का है और पर्ची में दूसरी कंपनी का उल्लेख किया गया है।

सेल्स टैक्स विभाग के अनुसार यह स्थिति भी गलत है। पर्ची में जो जीएसटी नंबर होता है, उसी कंपनी का उल्लेख करते हैं। उधर सेल्स टैक्स विभाग के सहायक आयुक्त मनीष त्रिपाठी ने अपनी तीन सदस्यीय टीम द्वारा इस फर्जीवाड़े की जांच शुरू करवा दी है।

maihar sharda mandir gst fraud news in hindi maihar ropeway gst fraud
suresh mishra IMAGE CREDIT: patrika

रोप-वे प्रबंधन में हड़कम्प

जानकारी के अनुसार, पत्रिका की खबर के बाद रोप-वे प्रबंधन में हड़कम्प मच गया है। अब तक गलत कंपनी और जीएसटी नंबर के आधार पर यात्रियों से शुल्क और टैक्स की वसूली कर रहे प्रबंधन ने आनन-फानन में तकनीकी अमले से अपने सॉफ्टवेयर में सुधार करवा कर जीएसटी नंबर तो बदलवा लिया।

उसमें भी गड़बड़ी

लेकिन अब उसमें भी गड़बड़ी सामने आ गई है। पर्ची में अब सुधार कर जो जीएसटी नंबर 23AAACI5764L2ZD डाला गया है वह दामोदर रोपवेज एण्ड इन्फ्रा लिमिटेड के नाम से है। रोप-वे की पर्ची में जीएसटी नंबर की कंपनी का नाम मां शारदा रोप वे लिखा गया है।

maihar sharda mandir gst fraud news in hindi maihar ropeway gst fraud
suresh mishra IMAGE CREDIT: patrika

सवाल कंपनियों पर
सवाल यह खड़ा हो रहा है कि शारदा प्रबंध समिति ने रोप-वे संचालन का काम किसे दिया है? यदि यह काम दामोदर रोपवेज एण्ड इन्फ्रा लिमिटेड को दिया गया है तो स्लिप में उस कंपनी का नाम और जीएसटी नंबर उल्लेखित होना चाहिए। अगर मां शारदा रोप-वे को संचालन का काम दिया है तो उसका अलग जीएसटी नंबर होना चाहिए। जानकारों ने आशंका जताई है कि कंपनी दो नामों के सहारे टैक्स चोरी का खेल कर रही है।

कलेक्टर के निर्देश पर जांच शुरू
कलेक्टर के निर्देश पर सेल्स टैक्स के सहायक आयुक्तमनीष त्रिपाठी ने तीन सदस्यीय टीम जांच के लिए नियुक्त की है। त्रिपाठी ने बताया कि यह टीम मौके पर पहुंच कर दस्तावेज खंगाली है और कुछ दस्तावेज अपने साथ भी लाई है। उनके प्रतिवेदन के आधार पर तथा अन्य स्थितियों को देखते हुए आगे का निर्णय लिया जाएगा।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned