पेट्रोल पंप के कर्मचारी ने ही बनाया था लूट का प्लान

रिलायंस पेट्रोल पंप में लूट का पुलिस ने किया खुलासा, चार आरोपियों को गिरफ्तार कर जब्त की रकम, असलहा के साथ आरोपी की बाइक बरामद

By: Dhirendra Gupta

Published: 05 Mar 2021, 11:18 AM IST

सतना. कोलगवां थाना अंतर्गत रीवा रोड स्थित रिलायंस पेट्रोल पंप में गुरुवार की सुबह हथियारबंद दो नकाबपोश बदमाशों ने लूट की वारदात को अंजाम दिया था। यहां से 2 मिनट से भी कम समय में 84 हजार रुपए से ज्यादा की रकम लूटी गई थी। जब पुलिस ने तफ्तीश शुरू की तो यह बात सामने आई कि पेट्रोल पंप के ही एक कर्मचारी ने लूट का प्लान बनाया था। इस प्लान में चार आरोपी शामिल रहे। इन चारों को पुलिस ने पकड़ लिया है और लूटी हुई रकम के साथ वाहन व असलहा भी जब्त कर लिया। पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने गुरुवार को इस घटना का खुलासा किया है। इस दौरान एडिशनल एसपी सुरेन्द्र कुमार जैन भी मौजूद रहे।
बाइक से मिला सुराग
नेशनल हाईवे 75 में सतना- रीवा मार्ग पर रामटेकरी में नवल अग्रवाल का नवल पेट्रोलियम के नाम से रिलायंस का पेट्रोल डीजल पंप है। यहां 25 फरवरी की सुबह करीब 4 बजे वारदात हुई थी। सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के मुताबिक एक बाइक पर सवार होकर आए दो बदमाश तड़के 4 बजकर 2 मिनट 12 सेकंड पर पंप के ऑफिस में दाखिल हुए और वारदात के बाद 4 बजकर 3 मिनट 58 सेकंड पर बाहर निकल गए। इसी बाइक के आधार पर पुलिस को लीड मिली और बदमाश पकड़ में आ गए।
यह हैं चारों आरोपी
पुलिस ने लूट के इस अपराध में पेट्रोल पंप कर्मचारी अजीत सोनी पुत्र रामप्रसाद सोनी (35), नारायण कुमार गुप्ता पुत्र विजय गुप्ता (25) दोनों निवासी सिद्धार्थ नगर शिव कॉलोनी, कपिल उर्फ विपिन अहिरवार पुत्र श्यामकिशोर अहिरवार (25) निवासी अमौधा, राजू सिंह पुत्र सदानंद सिंह (42) निवासी पतेरी को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से लूटी हुई रकम से 15 हजार रुपए नकद, बका, कट्टा व एमपी 53 एमजी 1631 नंबर की मोटर साइकिल जब्त की गई है। पुलिस का कहना है कि इनमें एक आरोपी नारायण डकैत बबुली कोल गिरोह के साथ अपहरण के मामले में भी आरोपी रह चुका है। जिसका अपराध धारकुण्डी थाना में वर्ष 2018 में कायम हुआ था।
आरक्षक ने बनाई ड्राइंग
एसपी ने बताया कि अपराधियों की तलाश में जुटी पुलिस टीम के आरक्षक ब्रजेश सिंह ने घटना स्थल से आने जाने के उस रूट की ड्राइंग बनाई थी जहां से अपराधी के भागने की आशंका थी। इसी रूट पर पुलिस ने काम किया तो सफलता मिलती गई। एसपी ने साइबर टीम की पीठ भी थपथपाई है और कहा कि साइबर टीम बहुत सशक्त है जिसने हर तरह से प्रयास कर अपराध की गुत्थी सुलझाने में मदद की है।
इस टीम को मिली कामयाबी
लूट की इस वारदात का पर्दाफस करने में निरीक्षक देवेन्द्र प्रताप सिंह थाना प्रभारी कोलगवां, उप निरीक्षक श्रीराम सनोडिया, डीआर शर्मा, आशीष धुर्वे, एएसआइ देवनारायण उपाध्याय, प्रधान आरक्षक शशिकांत पयासी, आरक्षक विपिन सोंधिया, वाजिद खान, बृजेश सिंह, अजीत सिंह, देवेंद्र सेन, रमाकांत तिवारी, प्रवीण तिवारी, राहुल सिंह, दिलीप द्विवेदी, उपेश पाठक, अजीत मिश्रा, संजय यादव, कमलाकर सिंह, विकास सिंह, अंकेश मरमट, रामानुज शर्मा, सैनिक ओमप्रकाश द्विवेदी, साइबर सेल प्रभारी उप निरीक्षक अजीत सिंह, एएसआइ दीपेश पटेल, प्रधान आरक्षक आरके पटेल, आरक्षक संदीप सिंह, वीपेन्द्र मिश्रा, अस्लेंद्र सिंह, पुर्णेश पाण्डेय की अहम भूमिका रही।
एसपी की अपील
पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने मीडिया से अपनी बात साझा करते हुए बताया कि सीसीटीवी एक सशक्त माध्यम है। इसलिए व्यापारिक प्रतिष्ठान में सीसीटीवी लगाना आवश्यक है। इसके साथ ही नौकर या कर्मचारी को रखने से पहले उनका वेरिफिकेशन जरूर कराएं।

Dhirendra Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned