फिल्टर प्लांट ओवरफ्लो, कॉलोनी जलमग्न, जनता प्यासी, निगम रोज नाले में बहा रहा लाखों लीटर पानी

फिल्टर प्लांट ओवरफ्लो, कॉलोनी जलमग्न, जनता प्यासी, निगम रोज नाले में बहा रहा लाखों लीटर पानी

By: suresh mishra

Published: 16 May 2018, 10:46 AM IST

सतना। झुलसाती गर्मी में एक ओर जहां शहर की जनता बूंद-बूंद पानी को तरह रही है। वहीं निगम प्रशासन की अनदेखी और जलावर्धन योजना के कर्मचारियों की लापरवाही से जनता के लिए सप्लाई होने वाला लाखों लीटर पानी नाले में बेकार बहाया जा रहा है। मंगलवार को कोलगवां स्थित नया फिल्टर प्लांट एक बार फिर ओवरफ्लो हो गया।

लगभग एक घंटे तक फिल्टर प्लांट का पानी बेहार बहता रहा और प्लांट में जलापूर्ति की निगरानी के लिए लगाए गए कर्मचारी व अधिकारी कार्यालय में जमहाई लेते रहे। नए फ्टिर प्लांट के ओवर फ्लो होने से देखते ही देखते पूरी फिल्टर प्लांट कॉलोनी तालाब में तब्दील हो गई।

जलकार्य विभाग के कर्मचारियों की मनमानी से नगर निगम के फिल्टर प्लांट में आई बाढ़ से कालोनी के कई घरों में पानी भर गया। बिन बारिश आई बाढ़ से घरों में पानी भरने के कारण कालोनी में रह रहे लोगों के बीच हड़कंप मच गया। लोग घरों में घुसे पानी से गृहस्थी बचाते नजर आए।

क्यों आई बाढ़
फिल्टर प्लांट कालोनी के रहवासियों ने बताया कि शहर में सप्लाई के लिए एनीकट से रोज नए फिल्टर प्लांट को 30 एमएलडी पानी सप्लाई किया जाता है, लेकिन फिल्टर प्लांट में तैयार कर्मचारी-अधिकारी फिल्टर प्लांट फुल होने के बाद भी एनीकट के कर्मचारियों को सूचति नहीं करते। इससे एनीकट से पानी की सप्लाई चालू रहने के कारण प्लांट ओवर फ्लो हो जाता है और लाखों लीटर पानी नाले में बहता है। फिल्टर प्लांट आए दिन ओवरफ्लो होता है। इससे एक ओर जहां पानी की बर्बादी हो रही है वहीं आए दिन कालोनी में बाढ़ आने से रहवासी परेशान हैं।

मुसीबत की जलावर्धन
घर-घर पानी पहुुंचाने की जलावर्धन योजना तीन साल में शहर की प्यास तो नहीं बुझा पाई, लेकिन निगम की अनदेखी व ठेका एजेंसियों की मनमानी से जनता के लिए सिरदर्द जरूर बन गई है। नई पाइपलाइन में जलापूर्ति नहीं होने के कारण आधा शहर भीषण जलसंकट से जूझ रहा है। लोगों की प्यास बुझाने निगम प्रशासन को टैंकर से जलापूर्ति करनी पड़ रही है।

सांसद ने मांगा बाणसागर का पानी
सांसद गणेश सिंह ने बाणसागर के अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने पानी की समस्या करने बाणसागर का पानी देने की मांग की। अधिकारियों ने सहमति देते हुए कहा, बाणसागर का पानी नहर के माध्यम से 18 मई को सतना के लिए छोड़ा जाएगा। जो 19 मई को सतना पहुंच जाएगा।

suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned