पब्जी की लत छुड़ाने के लिए डाटा लिमिट सेट करें

पब्जी की लत छुड़ाने के लिए डाटा लिमिट सेट करें
Setting Data Limit to Reduce the Addiction of pubji

Jyoti Gupta | Publish: Apr, 12 2019 06:37:40 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

एंटरटेनमेंट अब ले चुका है एडिक्शन का रूप, पैरेंट्स को बच्चों पर रखनी होगी नजर

सतना. बच्चे से लेकर बड़े सभी पब्जी की गिरफ्त में है। लेट नाइट इस गेम ने लोगों की रूटीन ही बिगाड़ दी है। गुजरात में तो इस पर बैन ही लग चुका है। एंटरटेनमेंट अब एडिक्शन का रूप ले चुका है। इससे बचने और एंटरटेनमेंट को बनाएं रखने के लिए जरूरी है कि कुछ प्रयास किया जाए। बच्चों को किसी भी एडिक्शन से बचाने के लिए सबसे अहम रोल पैरेंट्स का होता है। ऐसे में सोशल मीडिया के किसी भी ऐप और गेमिंग ऐप के एडिक्शन से बच्चों को सेफ करने के लिए पैरेंट्स को डाटा लिमिट सेट करने की जरूरत है। क्योंकि यह ऑनलाइन गेम होते हैं जो डाटा लिमिट सेट करने के बाद थोड़ी देर में खुद ब खुद बंद हो जाएंगे। इसके लिए पैरेंट्स को सबसे ज्यादा मॉनिटरिंग करने की जरूरत है।

एंटरटेनमेंट को डिसऑर्डर में बदलने में नहीं लगता समय

एक्सपर्ट कहते हैं कि मनोरंजन के लिहाज से इसमें कोई बुराई नहीं है। गेम्स और सोशल मीडिया को यदि एंटरटेनमेंट के नजरिए से देखा जाए तो यह एंटरटेनमेंट के लिए बेस्ट होता है, लेकिन इनका अधिक इस्तेमाल करने में यह एडिक्शन बन जाने पर यह नुकसानदायक हो जाता है। लंबे समय तक वीडियो गेम खेलने की वजह से बच्चों की नजर कमजोर होती है। साथ ही फि जिकल एक्टिविटीज कम होने से उनकी मसल्स और दूसरे अंगों पर भी असर पड़ता है। कई बार यूजर्स तो वर्चुअल लाइफ में ही जीना शुरू कर देते हैं । इतना ही नहीं वह गेम करैक्टर की तरह व्यवहार भी करने लगते हैं। इससे उनके स्वभाव में गुस्सा और चिड़चिड़ापन शामिल होने लगता है।

एग्रेसिव बन रहे यूजर्स

मनोवैज्ञानिक डॉ. आभा गोयल का का कहना है कि इस तरह के गेम बच्चों के साथ- साथ यंगस्टर्स को भी एग्रेसिव बनाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया इस तरह के गेम में टास्क पूरा करना होता है। टास्क पूरा करने के दौरान यूजर्स किसी का दखल बर्दाश्त नहीं करता। वे एकांत में बैठ कर इस तरह के गेम को घंटे बिता देते हैं। यूजर्स पूरी तरह इस तरह की गेम्स का आदी होजाता है। एेसे में अगर उन्हें बीच में गेम छोडऩा पड़े या फिर कोई बार बार उन्हें टोके तो वह काफी एग्रेसिव हो जाते हैं। गेम खेलने वाले के स्वाभाव में रूखापन आजाता है। गेम के सिवाए उन्हें कोई भी पसंद नहीं आता।

एडिक्शन को छुड़ाने अपनाएं यह तरीका

- बच्चों के गेम्स की वजाए अन्य विषयों पर बात करें।

-पैरेंट्स बच्चों को कभी भी अकेला न छोड़ें। - युवा दोस्तों से ग्रुप चैट कर सकते हैं।

- पैरेंट्स, घर के बड़े बच्चों की फ्रेंड लिस्ट में शामिल हो।

- गेम के लिए अपना ई-मेल और पासवर्ड डालें ताकि हर तरह का नोटिफि केशन पहले आप को पता लगे।

- प्ले स्टोर को लॉक रखें।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned