80 छात्र और पांच लीटर दूध

80 छात्र और पांच लीटर दूध
खंडार बड़ौद राउप्रावि में बच्चों को दूध पिलाते हुए शिक्षक।

Rakesh Verma | Publish: Jul, 20 2019 02:12:18 PM (IST) Sawai Madhopur, Sawai Madhopur, Rajasthan, India

80 छात्र और पांच लीटर दूध

खण्डार. उपखण्ड क्षेत्र के गांव बड़ौद में राउप्रावि में अन्नपूर्णा दुग्ध योजना के तहत हो रही अनदेखी का खुलासा बच्चों के द्वारा ही किया गया। ग्रामीण भूरया मीणा, पृथ्वी राज व गिर्राज मीणा आदि ने आरोप लगाया कि जुलाई माह से ही विद्यालय में बच्चों को दूध पिलाने में अनदेखी बरती जा रही हैं। विद्यालय के अध्यापक बच्चों को गुणवता पूर्ण दूध नहीं दे रहे हैं। बच्चे विद्यालय में होने वाली सारी गतिविधियों को अपने अभिभावकों को जाकर बताते हैं।


80 छात्रों पर पांच लीटर दूध
ग्रामीणों ने बताया कि विद्यालय में 80 छात्रों के नामांकन पर बच्चों को पांच लीटर ही दूध पिलाया जा रहा है जो कि नियमानुसार गलत है। राज्य सरकार के नियमानुसार प्रत्येक विद्यालय में राप्रावि में प्रति छात्र को करीब 150 ग्राम तथा राउप्रावि में प्रति बालक 200 मिली ग्राम दूध पिलाना आवश्यक है, लेकिन विद्यालय अघ्यापकों के द्वारा बच्चों को मात्रा से कम दूध पिलाया जा रहा है।


जर्जर अवस्था में विद्यालय
ग्रामीणों ने बताया कि विद्यालय भवन की हालत भी खराब है। बच्चों को बैठन के लिए जगह तक नहीं है। विद्यालय में दो ही हाल हैं जिनमें बच्चों को बैठाने की जगह नहीं है। विद्यालय में दो कमरे जर्जर अवस्था में हैं।


जिला कलक्टर को इस बारे में अवगत करवाया है। बच्चों के लिए संघर्ष जारी रहेगा।
बलराम सिंह बड़ौदिया, अधिवक्ता, खंडार


बच्चों को पांच लीटर दूध पिला दिया गया है । अब और दूध पिला देंगे।
रामवतार मिरोठा, पोषाहार प्रभारी, राउप्रावि बड़ौद


बच्चों को दूध पिलाने को लेकर कोई शिकायत नहीं मिली है। उच्चाधिकारियों के आदेशों पर विद्यालयों की जांच की जाएगी।
राज शर्मा, सीबीईईओ, ब्लॉक खण्डार

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned