video फर्जीवाड़ा रोकने के लिए बायोमेट्रिक मशीन से होगा किसानों का सत्यापन

फर्जीवाड़ा रोकने के लिए बायोमेट्रिक मशीन से होगा किसानों का सत्यापन

By: Subhash

Published: 29 Mar 2019, 11:37 AM IST

सवाईमाधोपुर. समर्थन मूल्य पर कृषि जिन्सों की खरीद में फर्जीवाड़े को रोकने के लिए सरकार ने इस बार नई कवायद की है। समर्थन मूल्य पर होने वाली सरसों, चना व गेहूं की खरीदारी में गड़बड़ी रोकने के लिए अब बायोमेट्रिक से किसानों का सत्यापन होगा। इससे जहां हकदार किसानों को फायदा होगा, तो वहीं किसानों के नाम से अन्य लोग समर्थन मूल्य पर फसल नहीं बेच पाएंगे। जिले में एक अप्रेल से सरसों, गेहूं व चने की समर्थन मूल्य पर खरीद शुरू होगी। इसके तहत सरसों, गेहूं व चने बेचने वाले किसानों का बायोमेट्रिक मशीन से सत्यापन किया जाएगा। सत्यापन के आधार पर ही रजिस्ट्रेशन हो सकेगा।
दरअसल, पिछली बार काफी शिकायतें आई थी कि लोग अन्य किसानों के नाम से समर्थन मूल्य पर कृषि जिन्स बेचकर व्यापार कर रहे है, जब वास्तविक किसान अपनी उपज लेकर पहुंचता है, तब तक उसके नाम से विक्रय पर्ची जारी हो जाती थी। इसे ध्यान में रखते हुए इस बार सरकार ने बायोमेट्रिक मशीन से सत्यापन करने का निर्णय किया है। मशीन से अंगूठा लगाते ही किसान की पूरी डिटेल जा जाएगी। वास्तविक किसान के स्थान पर दूसरा व्यक्ति सरसों, गेहूं, चना ला रहा है तो उसकी कृषि जिन्स नहीं बेच सकेगा।

किसानों का होगा ऑनलाइन सत्यापन
सरकार ने इस बार ऐसी व्यवस्था की है, इससे किसान जिस तिथि को चाहेगा उसकी दिन फसल बेच सकेगा, जबकि पहले किसान रजिस्ट्रेशन करा देता था लेकिन उसकी फसल पकती नहीं थी। अब किसान अपनी इच्छा के अनुसार पंजीयन में कृषि जिन्स बेचने की तिथि डलवाकर उसी दिन आकर बेच सकेगा। कृषि उपज मण्डी के अनुसार जिले में सरसों, चना व गेहूं की खरीद सवाईमाधोपुर समेत छह केन्द्रों पर होगी।

पिछली बार हुई थी शिकायतें
जानकारी के अनुसार पिछले साल खण्डार, चौथकाबरवाड़ा सहित अन्य केन्द्रों पर वास्तविक किसान के अलावा दूसरे किसानों के माल की तुलाई के मामले सामने आए थे। ऐसे में फर्जीवाड़े के चलते वास्तविक किसानों ने नाराजगी भी जताई थी। एसडीएम व जिला प्रशासन से शिकायत भी की थी। इसके बाद जिला कलक्टर ने कमेटी गठित कर जांच भी कराई गई थी।
....................
रूकेगी गड़बड़ी
इस बार किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं हो, इसके लिए बायोमेट्रिक मशीन से सत्यापन की व्यवस्था की गई है। सत्यापन के बाद ही रजिस्ट्रेशन होगा और विक्रय पर्ची जारी की जाएगी।
रामपाल शर्मा, सचिव, कृषि उपज मण्डी, सवाईमाधोपुर

वीडियो-चकचैनपुरा स्थित अमरूद फल मण्डी।

Subhash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned