scriptHow to Hide Your Metadata Location from Photos | क्या होती है 'मेटाडेटा लोकेशन? क्यों जरूरी है छिपाना | Patrika News

क्या होती है 'मेटाडेटा लोकेशन? क्यों जरूरी है छिपाना

क्या सोशल मीडिया पर फोटो शेयर करते हुए आप भी करते हैं ये गलती

जयपुर

Published: May 16, 2021 02:50:47 pm

सोशल मीडिया (Social Media) पर अपनी फोटो अपलोड करना युवाओं की नियमित दिनचर्या का हिस्सा है। लेकिन ज्यादातर युवाओं को नहीं पता कि इन फोटो के जरिए साइबर अपराधी (Cyber Criminals) उनकी वास्तविक लोकेशन और अन्य महत्त्वपूर्ण जानकारियां भी हासिल कर सकते हैं। दरअसल, कुछ तस्वीरों में, मेटाडेटा (Metadata) होता है, जिसका उपयोग आपको ऑनलाइन ट्रैक (Online Tracking) करने के लिए किया जा सकता है, जहां वह फोटो खींचा गया था। लेकिन आप अपनी तस्वीर को अपलोड करने से पहले इस मेटाडेटा लोकेशन (Metadata Location) को छिपा भी सकते हैं। आइए जानते हैं कि किसी फोटो में छिपी मेटाडेटा लोकेशन को कैसे सुरक्षित रखें-
क्या होती है 'मेटाडेटा लोकेशन? क्यों जरूरी है छिपाना
क्या होती है 'मेटाडेटा लोकेशन? क्यों जरूरी है छिपाना
01. -सोशल मीडिया या मैसेंजर ऐप पर जब हम कोई तस्वीर अपने एन्ड्राएड फोन से साझा करते हैं तो फोन का सर्वर फोटो की तारीख, फोटो लेने का स्थान और समय की जानकारी भी अपलोड कर देता है।
02. -यह जानकारी उक्त फोटो की छिपी हुई फाइलों के 'एग्जिफ मेटाडेटा' (Exif metadata) में स्थित हो सकती है। यह कितना कारगर टूल है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि यह किसी भी यूजर की तस्वीरों को फोटो में नजर आ रही जगह के आधार पर छांटने में मदद करने में उपयोगी है।
क्या होती है 'मेटाडेटा लोकेशन? क्यों जरूरी है छिपाना03. -हाल ही ऐपल और शाओमी जैसी कुछ कंपनियां इस तथ्य से रूबरू हुई हैं और वे यूजर्स को शेयरिंग के समय इस जानकारी को छिपाने में मदद करने के लिए कुछ नए फंक्शंस भी लाई हैं। हालांकि, एन्ड्राएड यूजर्स को अब भी इस जानकारी को छिपाने के लिए एक खास ऐप 'स्क्रैम्बल्ड एग्जिफ' (the Scrambled-Exif) डाउनलोड करना होगा। यह ऐप ठीक अपने नाम की ही तरह फोटो के डेटा को सूडो रैंडम एल्गोरिद्म की मदद से साइबर चोरों की नजरों से छिपा देता है। इस जानकारी को सिर्फ यूजर ही एल्गोरिद्म से मिलने वाली सीक्रेट की से खोल सकता है।
क्या होती है 'मेटाडेटा लोकेशन? क्यों जरूरी है छिपानायों सुरक्षित करें मेटाडेटा
04. -उपयोगकर्ताओं को बस इतना शेयर आइकन को टैप करना है जैसे कि सामान्य रूप से करते हैं, लेकिन सीधे फोटो या वीडियो भेजने की बजाय पहले अपनी फोटो को इस 'स्क्रैम्बल्ड एग्जिफ' ऐप शेयर करें। यह ऐप फोटो या वीडियो में छिपी हुई मेटाडेटा फाइल्स को हटा देगा और यूजर को वापस शेयरिंग ऑप्शन पर ले आएगा। ऐप की अच्छी बात यह है कि, यह यक ओपन सोर्स है जो पूरी तरह से ट्रैकर्स से मुक्त है, बेहतर है और निशुल्क भी है। जो लोग इसे बनाने वालों को आर्थिक मदद देना चाहते हैं, उन्हें केवल गूगल के आधिकारिक प्लेस्टोर पर चार अलग-अलग भुगतान विकल्प नजर आएंगे जिसके जरिए आप ऑनलाइन डोनेट कर सकते हैं।
क्या होती है 'मेटाडेटा लोकेशन? क्यों जरूरी है छिपानाऐसे इंस्टॉल करें ऐप
05. गूगल प्ले स्टोर के अलावा 'स्क्रैम्बल्ड एग्जिफ' ऐप को वैकल्पिक एन्ड्रॉएड स्टोर 'एफ-ड्रॉएड' (F-Droid) से भी डाउनलोड किया जा सकता है। यहां केवल सॉफ्टवेयर का मुफ्त संस्करण उपलब्ध है। आइओएस 13 के लिए एपल ऑटोमैटिक रूप से अपने यूजर को यह चॉइस देता है कि वे फोटो शेयर करते समय अपने मेटाडेटा को शेयर करना चाहते हैं या नहीं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारUP Assembly Elections 2022 : निर्भया केस की वकील सीमा समृद्धि कुशवाहा बसपा में हुईं शामिल, मायावती को सीएम बनाने का लिया संकल्पBJP से टिकट कटते ही पर्रिकर के बेटे को केजरीवाल का न्यौता, कहा- पार्टी में आपका स्वागत हैUttarakhand Election 2022: बीजेपी ने जारी की लिस्ट, त्रिवेंद्र रावत का नाम नहीं, हरक के करीबी को मौका
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.