नासा के अपॉर्चुनिटी रोवर के मंगल पर नष्ट होने की आशंका, धूल भरी आंधी के चलते टूटा था संपर्क

नासा के अपॉर्चुनिटी रोवर के मंगल पर नष्ट होने की आशंका, धूल भरी आंधी के चलते टूटा था संपर्क

Neeraj Tiwari | Publish: Jan, 28 2019 05:49:04 PM (IST) विज्ञान और तकनीक

अपॉर्चुनिटी रोवर के साथ वैज्ञानिकों का अंतिम संपर्क 10 जून, 2018 को हुआ था।

नई दिल्ली। नासा के मार्स अपॉर्चुनिटी रोवर पिछले जून में धूल भरी आंधी के कारण, अपने सौर पैनलों में बिजली पैदा नहीं कर पा रहा था। ऐसे में बिजली पैदा नहीं कर पाने के चलते यह निष्क्रिय हो गया था। वैज्ञानिकों ने अब उसके नष्ट होने की आशंका जताई है। बता दें कि, अपॉर्चुनिटी रोवर के साथ वैज्ञानिकों का अंतिम संपर्क 10 जून, 2018 को हुआ था।

पृथ्वी के 29 साल के बराबर होता है यहां पर 1 साल, जबकि साढ़े 10 घंटे का ही होता है दिन, जाने कैसे हुआ खुलासा

समाप्त हो चुका है तूफान

ग्रह पर धूल भरी आंधी चलने के कारण सौर-संचालित रोवर का परसेवेरेंस वैली (नासा के खोजी रोवर अपॉर्चुनिटी का अध्ययन क्षेत्र) में पश्चिमी छोर पर स्थित ठिकाना भी प्रभावित हुआ और इसके कारण वह अपनी बैटरी चार्ज नहीं कर पाया। हालांकि तूफान अब समाप्त हो गया है और परसेवेरेंस वैली का आसमान भी साफ हो गया चुका है, लेकिन 15 सालों की जीवन अवधि वाले रोवर ने तब से अब तक कोई संचार नहीं किया है।

चंद्र मिशन की सफलता के बाद चीन बना रहा मंगल फतह करने की योजना, अगले साल शुरू हो सकता है काम

वैज्ञानिकों ने नहीं मानी हार

नासा ने अपने एक बयान में कहा, सिग्नल के नुकसान के बाद से रोवर के 600 से अधिक रिकवरी कमांड को विकीर्ण कर दिया गया है। मार्स एक्सप्लोरेशन रोवर मिशन (एमईआर) के मुख्य अन्वेषक स्टीवन डब्ल्यू स्क्वॉयर ने कहा, मैंने अभी तक हार नहीं मानी है, जिसमें दो मार्स रोवर्स, अपॉर्चुनिटी और इसके ट्विन रोवर, स्पिरिट शामिल हैं।

इस साल प्रौद्योगिकी की दुनिया में रहेगा 'एबीसीडी-आई' का जलवा, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned