कपास से भरे ओवरलोड ट्रॉले से टकराया बिजली का तार, आग लगी

ओवरलोड ट्रकों की आवाजाही पर नहीं है प्रशासन की रोक, कपास से भरे ओवरलोड ट्रॉले से टकराया बिजली का तार, आग लगी बड़ा हादसा टला

By: vishal yadav

Updated: 18 Feb 2020, 07:42 PM IST

बड़वानी/सेंधवा. सेंधवा में भारी वाहनों में कपास और अन्य वस्तुओं की ओवरलैड परिवहन लगातार हादसों का कारण बन रहा है। इसके विपरीत जिम्मेदार प्रशासन खामोश है। नियमों को ताक पर रखकर किए जा रहा है। ओवरलोड परिवहन के चलते लोगों में नाराजगी है। वहीं नगर में किसी भी दिन बड़ा हादसा हो सकता है। मंगलवार को एक ट्रक में तय मानक से अधिक हाइट तक कपास भरे होने के कारण वह बिजली के तार से टकरा गया। ट्रक में आग लगी और अफरा-तफरी मच गई।
विद्युत तार उलझन से रहता है खतरा
नगर के मोहल्ला रोड स्थित उद्योग क्षेत्र में प्रतिदिन ओवरलोड ट्रक परिवहन करते है। कई ट्रकों की हाइट तय मानक से अधिक होने से बिजली के तारों में उलझने का खतरा रहता है। मंगलवार को भी वरला रोड स्थित मनजीत फाइबर में जा रहे ओवरलोड ट्रक जिसमें तय मानक से अधिक हाइट तक कपास भरा हुआ था। अचानक बिजली के तारों से टकरा गया। जैसे ही तार में शार्ट सर्किट हुआ। कपास से भरे ट्राले के ऊपरी हिस्से में आग लग गई। राहगीरों ने हादसे की जानकारी ट्रक चालक को दी इसके बाद चालक और क्लीनर ट्राले से उतरे। स्थानीय लोगों की मदद से आग पर काबू पाने की कोशिश की गई, लेकिन कुछ ही देर में आग ने ट्राले के पीछे भरे हुए कपास को अपनी चपेट में ले लिया आगजनी के दौरान ट्रक की बॉडी भी आग की चपेट में आ गई।
वरला रोड क्षेत्र में फैली सनसनी
लोगों को करंट लगने की आशंका के कारण बचाव कार्य के दौरान लोगों ने पहले तो ट्रक के पास जाना उचित नहीं समझा। बाद में कुछ लोगों ने हिम्मत दिखाते हुए आग बुझाने के प्रयास शुरू किए। कपास से भरे हुए ट्राले में आग लगने की घटना से वरला रोड क्षेत्र में सनसनी फैल गई। जिस जगह हादसा हुआ वहां से मात्र 100 मीटर की दूरी पर जिनी फैक्ट्रियां थी। जहां पर हजारों क्विंटल कपास भंडारण किया गया था। यदि जलता हुआ कपास हवा के कारण उड़कर जिनिंग फैक्ट्रियों में चला जाता तो बड़ा हादसा हो सकता था। सूचना मिलने के बाद नगरपालिका फायर फाइटर घटनास्थल पहुंचा और करीब आधे घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।
ओवरलोड ट्रकों से आग लगने का पहला मामला नहीं
नगर के व्यस्ततम बाजार सहित उद्योग क्षेत्र में ओवरलोड ट्रकों सहित तय मानक से अधिक ऊंचाई तक कपास और काकडे भरे होने के बाद हुए हादसों अनेक किस्से मिल चुके है। अक्सर देखने में आता है कि कपास का परिवहन करने के दौरान ट्रक मालिक और फैक्टरी संचालक लापरवाही पूर्वक ओवरलोड कपास भर देते है। ऐसे में बिजली के तारों से टकराकर हादसे हो चुके है। फैक्ट्री मालिक कई बार बिजली कंपनी को दोष देते है। हालांकि मंगलवार को हुई घटना के दौरान बिजली के तार भी झूलते बताए जा रहे हैं। 1 वर्ष पूर्व भी नगर के फव्वारा चौक पर कपास और काकड़े से भरे हुए ओवरलोड ट्रक बिजली के तार टकराने से शार्ट सर्किट हुआ था। हादसे में ट्रक में भरे कपास आग लग गई थी। लगातार हादसों के बाद भी प्रशासन ओवरलोड वाहनों पर कार्रवाई नहीं कर रहा है।

vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned