समय पर नहीं किया ब्रिज का काम पूरा, जारी हुआ नोटिस

कई हिस्सों में सड़क का काम बाकी है।

By: mantosh singh

Published: 14 Nov 2019, 11:33 AM IST

सिवनी. लोक निर्माण विभाग की देखरेख में पलारी से कहानी के बीच बनाई गई मॉडल सड़क का काम अधूरा होने के कारण वाहन चालकों की मुसीबत बढ़ गई है। कई हिस्सों में सड़क का काम बाकी है। वहीं मझगंवा की वैनगंगा नदी पर बनने वाला 200 मीटर लंबा ब्रिज भी अधूरा है। ठेकेदार द्वारा ब्रिज का निर्माण कार्य रोक दिए जाने से इसके अगली बारिश से पहले पूरे होने की संभावना भी नजर नहीं आ रही है।
दो साल से ब्रिज का निर्माण कार्य चल रहा है। इसके बावजूद ठेकेदार द्वारा 35 प्रतिशत काम ही पूरा किया गया है। पुराने जर्जर पुल से वाहन निकल रहे हैं। जिसमें कई जगह दरारें आ गई हैं। इस साल हुई जबदरस्त बारिश के बाद पुराना पुल कई जगह से क्षतिग्रस्त हो गया है। बारिश के दौरान भी वैनगंगा नदी का जलस्तर बढऩे के कारण कई दिनों तक यह मार्ग अवरूद्ध रहा था। क्षेत्रवासियों का कहना है कि यदि नया पुल समय पर ठेकेदार द्वारा बना दिया जाता है तो लोगों को बारिश के दौरान दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।
लोक निर्माण विभाग के सेतु निगम की देखरेख में ब्रिज निर्माण का ठेका नागपुर की कंपनी को दिया गया है। कंपनी को 200 मीटर लंबा और 8.4 मीटर चौड़े स्पॉन का ब्रिज पांच करोड़ रुपए की लागत से बनाना है। इस ब्रिज में 20.20 मीटर की दूरी पर 9 पिल्लर और दोनों छोर पर अपार्टमेंट बनाए जाने हैं। बारिश के दौरान ठेकेदार द्वारा निर्माणाधीन ब्रिज की सेंटिंग नदी से नहीं हटाई गई थी। जोरदार बारिश से ब्रिज निर्माण में लगी सेंटिंग भी धराशाई हो गई है।
लंबे समय से ब्रिज का निर्माण कार्य अवरूद्ध होने पर सेतू निगम ने ठेकेदार को अंतिम नोटिस दे दिया है। अधिकारियों का कहना है कि ठेकेदार द्वारा जल्द ही ब्रिज निर्माण का काम शुरू नहीं किया गया तो उसका ठेका निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी।
करीब 42 किमी की सड़क में पांच मेजर ब्रिज बनाए जाने हैं। इन सभी ब्रिज का निर्माण सेतू निगम द्वारा कराया जा रहा है। मझगंवा को छोड़कर शेष 4 ब्रिज अन्य ठेकेदारों द्वारा बना दिए गए हैं। इनमें से दो ब्रिज की एप्रोच रोड अभी भी अधूरी है। इस वजह से ब्रिज से निकलने वाले यात्री वाहनों को मुश्किल हो रही है।
मॉडल सड़क निर्माण का ठेका एक कंपनी को पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा दिया गया है। कंपनी ने सड़क के ज्यादातर हिस्से में कांक्रीटीकरण कर दिया है। लेकिन कुछ हिस्सों में अब भी कांक्रीटीकरण विभिन्न कारणों से होना बाकी है। इस सड़क से निकलने वाले यात्री वाहन कांक्रीट सड़क में तेज रफ्तार से निकलते हैं। ऐसे में अचानक कच्ची सड़क और ऊबड़ खाबड़ रास्ता होने के कारण वाहनों के दुर्घटनाग्रस्त होने का खतरा बढ़ जाता है। रात के समय वाहन अधूरी सड़क को नहीं देख पाते। ग्रामीणों का कहना है कि लोक निर्माण विभाग द्वारा सड़क में स्पीड ब्रेकर भी नहीं बनाए गए हैं। इस वजह से आए दिन सड़क में हादसे हो रहे हैं। पिछले सप्ताह धनौरा बाजार में तेज रफ्तार कार ने दो छात्राओं को टक्कर मार दी थी। हादसे में एक छात्रा की मौत हो गई थी। जबकि दूसरी घायल छात्रा का इलाज चल रहा है।
इनका कहना है-
मझगंवा नदी पर ब्रिज निर्माण का ठेका नागपुर की नक्षत्र कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया है। समय सीमा समाप्त होने के बाद भी कंपनी ने ब्रिज निर्माण का काम पूरा नहीं किया है। ठेकेदार कंपनी को आखिरी नोटिस विभाग ने जारी कर दिया है। जल्द ही निर्माण कार्य पूरा कराने की कोशिश की जा रही है।
पवन पटवा, सहायक यंत्री सेतू निगम सिवनी

mantosh singh Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned