विधान सभा चुनाव की बिसात बिछा गए सीएम शिवराज

akhilesh thakur

Publish: Sep, 16 2017 01:23:23 (IST)

Seoni, Madhya Pradesh, India
विधान सभा चुनाव की बिसात बिछा गए सीएम शिवराज

संगोष्ठी में आए किसानों की नब्ज टटोली

सिवनी. दोपहर १.४५ बजे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का हेलीकाप्टर खैरापलारी पहुंचा। करीब सवा घंटे कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कृषि वैज्ञानिक, विधायक व मंत्री के उद्बोधन को सुना। बीच-बीच में वे किसानों के हाव-भाव को परखे। माइक लेकर उनको वैज्ञानिकों के लिए तालियां बजाने की बात कही। इसके बाद जब माइक संभाला तो सीएम के एक-एक शब्द में अगामी विस चुनाव की तैयारियां झलक रही थी।
उन्होंने उद्बोधन के दौरान कहा कि अब तक किसी भी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री इतने देर नहीं रहा होगा। मैं आप लोगों के बीच आपकी समस्याओं को सुनने और उसके समाधान करने आया हूं। भाषण के दौरान बीच-बीच में किसानों से समर्र्थन में हाथ उठवाना और अंत में उनको संकल्प दिलाकर सीएम ने सभा समाप्त किया। इसके पूर्व किसानों के लिए एक साल में तैयार होने वाले अलग ३७८ बाजार। बाजार और समर्थन मूल्य में के बीच की राशि का भुगतान उनके खाते में करने की सरकार की योजना बताई। इसके अलावा पार्टी जिलाध्यक्ष को मंच पर बोलने का मौका न देकर विपक्षी दल के विधायक को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने संगोष्ठी में बोलने का मौका देकर उपस्थितजनों में एक अलग संदेश दिया। इन सबको आने वाले विधासभा चुनाव की बिसात से जोड़कर देखा जा रहा है। उनके जाने के बाद प्रबुद्ध किसानों में भी इसकी चर्चा रही। उनका कहना था कि सीएम शिवराज ने संगोष्ठी के माध्यम से चुनावी बिसात बिछाने की शुरुआत पूरे प्रदेश में कर दी है।

पुलिस अधीक्षक को संभालनी पड़ी व्यवस्था
सिवनी. सीएम ने मुख्य मंच के सामने खाली जगह को देखकर कहा कि संगोष्ठी में किसानों से इतनी दूरी अच्छी नहीं है। किसानों को आगे बुलाओ। इसके बाद किसान खाली जगह में जाने के लिए टूट पड़े। जब एक साथ किसानों का हुजूम उधर बढ़ा तो पुलिस अधीक्षक तरुण नायक व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खांडले को किसानों को रोकने आना पड़ा।

कलेक्टर को कहा ३१ अक्टूबर तक बांट दो खसरा
मुख्यमंत्री ने कलेक्टर गोपालचंद डाड को कहा कि वे ३१ अक्टूबर तक अविवादित बंटवारा, सीमांकन और निपटारे से संबंधित नामांतरण प्रपत्र नि:शुल्क घर-घर पहुचाये जा रहे हैं। 3 माह की अवधि के पश्चाात अविवादित बंटवारा व नामान्तरण के प्रकरण लाने वाले व्यक्ति को 1 लाख रुपए ईनाम दिया जाएगा। कहा कि इनाम की राशि संबंधित अधिकारी के वेतन से काटी जाएगी, जिसकी लापरवाही से यह प्रकरण लम्बित रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned