इस अभियान से विद्यालय की गतिविधियों से जुडेंगे बच्चे, घर पर ही शुरु हुई कक्षाएं

प्रतिदिन छात्रों से बात करेंगे शिक्षक, घर-घर जाकर लेंगे फीडबैक
तैयार करना होगा पूरा रिकार्ड, अधिकारी करेंगे मॉनीटरिंग

By: Ramashankar mishra

Updated: 07 Jul 2020, 12:37 PM IST

शहडोल. शाला बंद होने के बाद भी प्रतिदिन एवं नियमित अध्ययन के लिए घर में ही विद्यालय जैसा वातावरण निर्मित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। जिसके लिए राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा हमारा घर हमारा विद्यालय कार्यक्रम प्रारंभ किया जा रहा है। जिसकी शुरुआत सोमवार से की गई। इस कार्यक्रम के तहत कक्षा 1 से 8 तक के छात्रों के लिए घर पर ही विद्यालय जैसी गतिविधियां संचालित कराई जा रही हैं। जिसमें सुबह 10 बजे घर के सदस्य द्वारा घंटी बजाकर कक्षा की शुरुआत की जाएगी व 1 बजे घण्टी बजाकर छुट्टी की जाएगी। इसके लिए घर के एक स्थान को छात्रों की पढाई के लिए सुरक्षित रखना होगा। हमारा घर हमारा विद्यालय अभियान के तहत अकादमिक, खेल कला एवं मनोरंजन, कहानी सुनना एवं कहानी रचना व मस्ती की पाठशाला/रेडियो बालसभा जैसी गतिविधियां आयोजित की जानी है। जिसमें रेडिया, वाट्सअप ग्रुप व दक्षता उन्नयन की वर्कबुक के माध्यम से देखना, सुनना व लिखना जैसी गतिविधियां संचालित होंगी।
वर्कबुक का किया गया वितरण
हमारा घर हमारा विद्यालय अभियान के तहत जहां वाट्सअप, रेडियो व अन्य माध्यमों से शैक्षणिक गतिविधियों का संचालन कर उनकी सीखने की क्षमता बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं घर-घर दक्षता उन्नय की वर्कबुक बितरित की गई है। जिससे कि छात्र लेखन कार्य भी कर सकें व अपनी तैयारी अनवरत् जारी रखें।
शिक्षकों की जिम्मेदारी तय
हमारा घर हमारा विद्यालय अभियान के तहत शिक्षकों की जिम्मेदारी तय की गई है। जिसमें जिले के 1627 प्राथमिक व 497 माध्यमिक विद्यालयों में पदस्थ लगभग 3200 शिक्षक अपने-अपने क्षेत्र में शैक्षणिक गतिविधियों के संचालन में सहयोग करेंगे। जिसमें प्रत्येक शिक्षक अपने-अपने विद्यालय के 5 छात्र से प्रतिदिन बात फोन पर बात कर रिकार्ड तैयार करेंगे। प्रतिदिन विद्यालय समय में गांव/शहर के एक मोहल्ले में 5 बच्चों के घर जाकर हमारा घर हमारा विद्यालय के कार्य का आकलन करेंगे तथा उसका फीडबैक देंगे। बच्चों की समस्याओं का समाधान करेंगे तथा समयानुसार सभी गतिविधियों का आकलन कर फीडबैक प्रस्तुत करना होगा।
अधिकारी करेंगे मॉनीटरिंग
प्रतिदिन अपने विद्यालय के शिक्षकों से अभियान के क्रियान्वनयन की जानकारी लेने की जिम्मेवारी प्रधानाध्यापक की होगी। वहीं पूरे अभियान की मॉनीटरिंग का कार्य सीएसी, बीएसी, बीआरसी, सीएसी व डीपीसी करेंगे।

.............................
छात्रों की शैक्षणिक गतिविधियों की निरंतरता बनाए रखने के लिए हमारा घर हमारा विद्यालय अभियान की शुरुआत की गई हैं। जिसमें घर पर ही छात्रों को विद्यालय जैसा माहौल प्रदान करने का प्रयास किया जाएगा। जिसमें शिक्षक बच्चों से संपर्क करेंगे, उसका पूरा रिकार्ड संधारित करेंगे। वरिष्ठ अधिकारी इसकी मॉनीटरिंग करेंगे। काफी अच्छा असर पड़ेगा।
मदन त्रिपाठी, डीपीसी, शहडोल।

Show More
Ramashankar mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned