कोरोना मरीजों का इलाज करने नहीं मिल रहे डॉक्टर, नहीं आए आवेदन

कोविड-19 को देखते हुए एनआरएचएम के तहत होनी थी डॉक्टरों की भर्ती

By: amaresh singh

Published: 22 Nov 2020, 12:19 PM IST

शहडोल. बढ़ते कोरोना के मामले और संक्रमण की वापसी की आशंका को देखते हुए पूर्व से ही अस्पतालों में आवश्यक तैयारियां की जा रही है। अस्पतालों में डॉक्टरों की नियुक्तियां की जा रही हैं। एनआरएचएम द्वारा मेडिकल कॉलेज में 40 अस्थाई चिकित्सकों की भर्ती की जानी थी लेकिन डॉक्टरों और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को ड्यूटी से परहेज हैं। 40 डॉक्टरों की अस्थायी भर्ती के लिए मेडिकल कॉलेज द्वारा विधिवत भर्ती प्रक्रिया अपनाई गई थी। इसके लिए आवेदन मंगाए गए थे। जिसके लिए अभी तक एक भी आवेदन नहीं आए हैं। ऐसे में अब मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को पुरानी व्यवस्था से ही काम चलाना पडेगा।


वर्तमान में 95 डॉक्टर्स, इनकी होनी थी भर्ती
मेडिकल कॉलेज में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत 40 अस्थाई चिकित्सकों की भर्ती होनी थी। जिसमें एनेस्थीसिया, मडिसिन व एमबीबीएस चिकित्सकों के आवेदन आमंत्रित किए गए थे। जिनमें से एक भी पद के लिए आवेदन प्राप्त नहीं हुए। उल्लेखनीय है कि मेडिकल कॉलेज के पास फिलहाल 95 चिकित्सकों का स्टॉफ मौजूद है। 40 की और भर्ती हो जाने से स्टॉफ में बढ़ोत्तरी हो जाती। इससे प्रबंधन को काफी मदद मिलती।


40 पदों पर एक भी नहीं आए डॉक्टरों के आवेदन
इन पदों पर भर्ती हो जाने से मेडिकल कॉलेज के स्टॉफ में इजाफा हो जाता। जिससे कोरोना संक्रमण के बढऩे पर मरीजों के उपचार में काफी मदद मिलती। उक्त 40 पदों के लिए एक भी आवेदन न आने की वजह से मेडिकल कॉलेज की वैकल्पिक व्यवस्था पर पानी फिर गया है।
&अस्थाई चिकित्सकों की भर्ती के लिए आवेदन मंगाए गए थे लेकिन एक भी आवेदन प्राप्त नहीं हुए है। चिकित्सकों की भर्ती हो जाने से काफी मदद मिलती लेकिन अब जितना स्टॉफ है उन्ही की मदद से मरीजों का इलाज किया जाएगा। -मिलिन्द शिरालकर, डीन, मेडिकल कॉलेज शहडोल

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned