script तीन महीने से वेतन न मिलने पर 300 से अधिक आउटसोर्स कर्मचारी हड़ताल पर | More than 300 outsourced employees on strike for not receiving salarie | Patrika News

तीन महीने से वेतन न मिलने पर 300 से अधिक आउटसोर्स कर्मचारी हड़ताल पर

locationशाहडोलPublished: Dec 12, 2023 12:33:44 pm

Submitted by:

shubham singh

मेडिकल कॉलेज के कर्मचारियों को अनिश्चित कालीनी हड़ताल शुरू

तीन महीने से वेतन न मिलने पर 300 से अधिक आउटसोर्स कर्मचारी हड़ताल पर
तीन महीने से वेतन न मिलने पर 300 से अधिक आउटसोर्स कर्मचारी हड़ताल पर

शहडोल. शासकीय बिरसामुंड मेडिकल कॉलेज के करीब 300 आउटसोर्स कर्मचारियों ने तीन महीने से वेतन भुगतान न होने पर कामबंद हड़ताल शुरू कर दिया है। सोमवार को सुबह से ही मेडिकल कॉलेज में सभी आउटसोर्स कर्मचारी कामबंद करते हुए एकजुट होकर नारेबाजी करने लगे। कर्मचारियों का कहना है कि जब तक वेतन भुगतान नहीं किया जाएगा तब तक वह काम पर नहीं लौटेंगे। कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से अस्पताल की सफाई व्यवस्था के साथ अन्य व्यवस्थाएं पूूरी तरह चौपट हो चुकी हैं। जिसके कारण दिन भर अस्पताल की सफाई नहीं हो सकी और जगह-जगह गंदगी का अंबार लगा हुआ था। वहीं वार्डों की सफाई न होने से मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ा है। वहीं सुरक्षा व वार्ड की व्यवस्था के साथ ही कम्प्यूटर संबंधी कार्य पूरी तरह ठप रहा।
बीते महीने कमिश्नर को दिया था आवेदन
मेडिकल कॉलेज के सफाई कर्मचारियों ने 21 नवंबर को प्रबंधन सहित कमिश्नर शहडोल को आवेदन देकर वेतन दिलाने की मांग की थी। प्रबंधन ने कर्मचारियों से वेतन दिलाने का समय मांगा था। नियत समय तक वेतन न मिलने के कारण सोमवार को सभी आउटसोर्स कर्मचारी कामबंद हड़ताल पर चले गए। कर्मचारियों ने कहा कि नियमित वेतन भुगतान न होने से परिवार चलाने में समस्या हो रही है। उन्होंने बताया कि 3-4 महीने बीत जाने के बाद 1 महीने का भुगतान दिया जाता है। वर्तमान में तो 3 महीने से वेतन भुगतान नहीं किया गया है। जिसके कारण काफी समस्या हो रही है।
अनिश्चितकालीन चलेगी हड़ताल
आउटसोर्स कर्मचारियों ने वेतन भुगतान न होने पर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जाने का ऐलान कर दिया है। इसमें हाउसकीपिंग, सुरक्षा कर्मचारी, कम्प्यूटर ऑपरेटर, सफाई कर्मचारी, वार्ड बॉय, वार्ड आया, इलेक्ट्रीशियन के साथ ही फायर सेफ्टी के कर्मचारी शामिल हैं। इन कर्मचारियों से संबंधित सभी कामकाज मेडिकल कॉलेज में सोमवार से ठप हो गए हैं।
इनका कहना है।
कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से अस्पताल की व्यवस्थाएं बिगडऩे लगी हंै। बीते तीन महीने से शासन स्तर से भुगतान नहीं हुआ है। जिसके कारण कंपनी को भुगतान नहीं किया जा सका है। कर्मचारियों की हड़ताल की जानकारी हमने वरिष्ठ अधिकारियों को दे दी है।
डॉ. मिलिंद शिरालकर, डीन मेडिकल कॉलेज

ट्रेंडिंग वीडियो