कोरोना के कहर ने रोकी आरटीओ की चार करोड़ की आय

पिछले बजट सत्र से इस वर्ष चार फीसदी कम हुई राजस्व वसूली,बीएस-4 वाहनों के रजिस्टे्रशन की बढ़ाई अवधि

By: brijesh sirmour

Updated: 04 Apr 2020, 09:05 PM IST

शहडोल. कोरोना वायरस के कहर ने क्षेत्रीय परिवहन विभाग के करीब चार करोड़ रुपए की राजस्व आय को रोक दिया। बजट सत्र के अंतिम माह मार्च में जब आरटीओ विभाग में अधिकतम राजस्व आय की संभावना रहती है, तब कोरोना का कहर आ पहुंचा और आरटीओ की राजस्व आय पर पूरी तरह से पानी फेर दिया। इसके बाद भी बजटीय सत्र 2019-20 में क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में करीब 48 करोड़ रुपए की राजस्व आय हुई है। जो निर्धारित लक्ष्य से 16 करोड़ रुपए कम है। माना जा रहा है कि यदि कोरोना का कहर नहीं होता तो मार्च महीने में करीब चार करोड़ रुपए की राजस्व आय और बढ़ जाती।
चार प्रतिशत कम हुआ राजस्व
विभागीय सूत्रों के अनुसार क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष चार प्रतिशत कम राजस्व की आय हुई है। गत वर्ष निर्धारित लक्ष्य 45.77 करोड़ से पौने चार करोड़ रुपए ज्यादा यानि 49.18 करोड़ रुपए की राजस्व आय हुई थी। इस वर्ष कम राजस्व वसूली की वजह कोरोना के अलावा हैवी वाहनों का 72 प्रतिशत, कार का 13 प्रतिशत और लाइट मोटर व्हीकल का 50 प्रतिशत खरीदी कम होना बताया जा रहा है।
30 तक होगा बीएस-4 वाहनों को पंजीयन
बताया गया है कि 25 मार्च तक बेंचे गए वाहनों बीएस-4 वाहनों का पंजीयन की अंतिम तिथि को बढ़ाकर आगामी 30 अप्रैल तक कर दी गई है। इसके अलावा एक अपै्रल तक की स्थिति में बचे बीएस-4 वाहनों में दस फीसदी वाहनों का कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण देश भर में किए गए लॉकडाउन की अवधि समाप्त होने के दिन से दस दिन के भीतर विक्रित किए जाने की अनुमति दी गई है।
इनका कहना है
मार्च माह में यदि कोरोना वायरस का कहर नहीं होता तो तीन से चार करोड़ रुपए की राजस्व आय हो जाती। इसके बाद भी बजटीय सत्र 2019-20 में करीब 48 करोड़ रुपए की राजस्व आय हुई है।
आशुतोष ङ्क्षसह भदौरिया, क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी, शहडोल

brijesh sirmour Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned