कोरोना से 21 वर्षीय युवक की मौत, मां ने कहा- अब मेरा कोई भी नहीं, शव रख लो, दाह संस्कार करा देना

किडनी रोग से भी ग्रसित था युवक, इलाज के दौरान लगातार बिगड़ती गई हालत, सोमवार की सुबह मौत

By: amaresh singh

Published: 14 Sep 2020, 10:07 PM IST

शहडोल। मेडिकल कॉलेज के आइसीयू में कोरोना मरीजों की मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। पांच दिन के भीतर दस कोरोना मरीजों की लगातार मौत के बाद कमिश्नर ने एनालिसिस रिपोर्ट मांगी थी कि सोमवार की सुबह एक 21 वर्षीय युवक की मौत हो गई। उमरिया निवासी युवक मेडिकल कॉलेज में 11 सितंबर को 1.30 बजे भर्ती हुआ था। इसके बाद उसका सैंपल लेकर जांच किया गया तो कोरोना पॉजिटिव मिला था। इसके बाद सोमवार को मौत हो गई। बाद में परिजन मेडिकल कॉलेज पहुंचे लेकिन युवक को घर ले जाने से हाथ खड़े कर दिए। बेबश मां का कहना था हमें तो छूने के लिए भी नहीं दिया जाएगा। बेटे के अलावा कोई नहीं है। शव आप ही रख लो और दाह संस्कार करा देना। प्रबंधन के अनुसार, युवक के घर से केवल दो महिलाएं कॉलेज आई थी। घर में किसी पुरुष के नहीं होने से शव साथ में लेकर नहीं गईं। सोमवार की रात तक युवक का शव मेडिकल कॉलेज में ही रखा रहा। डीन मिलिन्द्र शिरालकर के अनुसार, मंगलवार को अधिकारियों से बातचीत के बाद युवक का अंतिम संस्कार कराया जाएगा।

किडनी की थी बीमारी, फेफड़ों में भी संक्रमण
मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के अनुसार, युवक पहले से काफी बीमार था। युवक की हालत लगातार बिगड़ रही थी। नाजुक स्थिति को देखते हुए मेडिकल कॉलेज में उसे आईसीयू में भर्ती किया गया था। इलाज के बाद भी उसकी हालत में सुधार नहीं हो रहा था। डॉक्टरों ने बाद में उसे वेंटिलेटर पर रखा गया। जानकारी के अनुसार, युवक किडनी की बीमारी से भी ग्रसित था। नषगपुर में इलाज चल रहा था। संक्रमण फेफड़ों तक पहुंच गया था। रविवार को उसकी हालत अचानक बिगड़ी और दम तोड़ दिया।
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
लापरवाही: कोरोना संक्रमित महिला को भेज दिया घर, हालत बिगडऩे के बाद मौत
- उमरिया के बधवार निवासी एक 52 वर्षीय महिला की कोरोना से मौत हो गई। महिला का नागपुर में इलाज चल रहा था। उमरिया लौटने के बाद कोरोना की जांच में पॉजिटिव मिली थी। इसके बाद मेडिकल कॉलेज में 9 सितंबर को भर्ती हुई थी। यहां पर महिला का इलाज किया जा रहा था लेकिन 11 सितंबर को बिना निगेटिव रिपोर्ट आए मेडिकल कॉलेज से घर आ गई। घर पहुंचने के बाद लगातार महिला की हालत बिगडऩे लगी और सोमवार अलसुबह महिला की मौत हो गई। महिला की मौत ने मेडिकल कॉलेज प्रबंधन पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। बिना निगेटिव रिपोर्ट आए महिला को गंभीर स्थिति होने के बावजूद क्यों छोड़ा गया। कोरोना संक्रमित महिला की मौत की सूचना पर तहसीलदार नौरोजाबाद और बीएमओ डॉक्टर एमके बघेल मौके पर पहुंचे। परिजनों के अनुसार, महिला को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने छोड़ दिया था। कॉलेज प्रबंधन ने दलील दी है कि महिला के परिजनों ने मेडिकल सलाह के बावजूद लिखित में देकर महिला को साथ ले गए, जबकि कोरोना पॉजिटिव को इस तरह से नहीं छोड़ा जा सकता है। कॉलेज प्रबंधन का कहना था कि महिला के परिजन विवाद कर रहे थे। इस वजह से लिखित में लेकर छोड़ दिया गया था।
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बढ़ता मौत का ग्राफ: 24 मरीजों की हो चुकी है मौत
संभाग में अब तक में कोरोना से 24 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसमें सबसे ज्यादा शहडोल में कोरोना मरीजों की मौत हुई है। शहडोल में कोरोना से 15 मरीजों की मौत हुई है। इसके बाद अनूपपुर में 4 कोरोना मरीज तथा उमरिया में 5 कोरोना मरीजों की मौत हुई है। इसमें 90 फीसदी से ज्यादा मौत पिछले 50 दिन के भीतर हुई हैं।
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned