निजी भूमि को रिकार्ड में दर्ज कर दिया शासकीय

पांच साल से परेशान किसान, 3 बार पीएम व 2 बार सीएम से लगा चुका है गुहार
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क सहित डैम में ले ली बिना मुआवजा दिए जमीन

शिवपुरी/पिछोर. जिले के पिछोर विकासखंड के ग्राम दबियाजगन में रहने वाले कृषक श्रीकांत पाठक के स्वामित्व की पटवारी हल्का नंबर 90 में 18 बीघा जमीन है, जो वर्ष 2015 से पूर्व तक रिकॉर्ड में उनके नाम से दर्ज थी, लेकिन उसके बाद उसे शासकीय दर्ज कर दिया गया। उक्त जमीन पर खेती तो पाठक परिवार ही कर रहा है, लेकिन रिकॉर्ड में शासकीय हो जाने से उन्हें यह डर सता रहा है कि कहीं उनकी जमीन पर पट्टे न वितरित कर दिए जाएं। इतना ही नहीं उनकी साढ़े चार बीघा जमीन को प्रधानमंत्री ग्राम सड़क व डैम निर्माण में ले ली गई, जिसका मुआवजा भी अभी तक उन्हें नहीं दिया गया है। महत्वपूर्ण बात यह है कि अपनी जमीन को रिकॉर्ड में निजी करवाने के लिए कृषक पांच साल में न केवल दर्जनों आवेदन दे चुका है, बल्कि प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री को भी दो-दो बार आवेदन दे चुका है, बावजूद इसके रिकार्ड में सुधार नहीं किया गया।

ज्ञात रहे कि शिवपुरी जिले मे जब राजस्व विभाग ने जमीनों को कंप्यूटराइज्ड किया, तो ऑपरेटरों ने बिना यह देखे कि जमीन निजी है या शासकीय, सभी की जमीनों को रिकॉर्ड में शासकीय दर्ज कर दिया। शिवपुरी सहित पोहरी एवं पिछोर में सैकड़ों किसानों की जमीन राजस्व रिकॉर्ड में शासकीय दर्ज हो जाने से किसान परेशान होकर भटकते रहे। कुछ जगह तो जमीनों में सुधार कर लिया गया, लेकिन पिछोर के ग्राम दबियाजगन में रहने वाले श्रीकांत पाठक की भूमि सर्वे नंबर 1322, 1324, 1327, 1546, 1547, 1551, 851, 856, 859, 1319 व 1320 को रिकॉर्ड में शासकीय दर्ज कर दिया है। जिसके चलते वह न तो अपनी फसल को खरीदी केंद्रों पर बेच पा रहे हैं और न ही उन्हें शासन की योजना का लाभ मिल पा रहा है।

5 साल पूर्व दिए आदेश पर भी नहीं हुआ अमल

रिकॉर्ड में अपनी जमीन को अपने नाम करवाने के लिए कृषक ने तहसीलदार न्यायालय में प्रकरण लगाया तो 21 जुलाई 2015 को तत्कालीन तहसीलदार बीपी श्रीवास्तव ने आदेश जारी किया था कि रिकॉर्ड में जमीन को कृषक के नाम से दर्ज की जाए। इस आदेश को हुए भी पांच साल गुजर गए, लेकिन अभी तक कृषक की जमीन को उसके नाम दर्ज नहीं की गई है।

यहां पर कर चुका है शिकायत

परेशान कृषक ने 26 फरवरी 2018 व 15 अप्रैल 2018 को सीएम हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज कराई थी। इसके अलावा 11 सितंबर व 20 सितंबर 2019 को प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में पीजी लगाई। इसके अलावा 24 दिसंबर 2019 को कृषक ने पीएमओ ऑफिस में फिर पीजी लगाई, जिसका रजिस्टे्रशन नंबर पीएमओपीजी/ई/2019/0724350 है, में दर्ज कराई। लेकिन हर बार शिकायत का नंबर तो किसान को मिला, लेकिन उसकी शासकीय की गई भूमि को उसके पक्ष में रिकॉर्ड में दर्ज नहीं की गई।


चली गई साढ़े 4 बीघा जमीन

चूंकि कृषक के स्वामित्व की जमीन रिकॉर्ड में शासकीय दर्ज हो चुकी है, इसलिए उसकी जमीन के पास से निकाली गई प्रधानमंत्री ग्राम सड़क एवं बनाए गए एक डैम में कृषक की साढ़े चार बीघा जमीन को शासकीय मानकर उपयोग में ले लिया गया। चूंकि रिकॉर्ड में उक्त जमीन शासकीय दर्ज है, इसलिए किसान को उसकी जमीन का मुआवजा भी नहीं दिया गया। यानि उक्त कृषक की जमीन को शासकीय मानकर सरकार ने अपने कार्यों में उपयोग कर लिया तथा उसे मुआवजे के नाम पर एक धेला नहीं दिया गया।


अब सरकार न बांट दे पट्टे

कृषक की साढ़े चार बीघा जमीन पहले ही सरकारी कार्यों में ले ली गई तथा उसका मुआवजा भी नहीं दिया गया। चूंकि अभी भी रिकॉर्ड में कृषक की जमीन शासकीय दर्ज है, इसलिए उसे अब यह डर सता रहा है कि कहीं उसकी जमीन को शासकीय मानते हुए सरकार उसे पट्टे में न बांट दे। यही वजह है कि वो मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक अपनी गुहार लगा चुका है, लेकिन उसकी सुनवाई कहीं नहीं हुई।

दिखवा लेते हैं मामला

राजस्व रिकॉर्ड में निजी भूमि को शासकीय कैसे और किसने कर दिया, इसकी कोई शिकायत या जानकारी मेरे पास नहीं है। यदि ऐसा हुआ है तो हम यह मामला दिखवा लेते हैं और जहां भी त्रुटि हुई है, उसे सुधरवाया जााएगा।
अक्षय कुमार सिंह, कलेक्टर शिवपुरी

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned