यूपी से सस्ता डीजल-पेट्रोल खरीदकर मध्यप्रदेश में कर रहे अवैध कारोबार

अनुविभाग अंतर्गत खनियांधाना, दिनारा आदि मप्र व उप्र की सीमाओं पर बने पेट्रोल पंपों से पेट्रोल व डीजल का अवैध कारोबार इन दिनों धड़ल्ले से जारी है। एक तरफ जहां शिवपुरी जिले के पंपों पर कोई यह ईंधन लेने आ नहीं आ रहा, वहीं 10 रुपए सस्ता ईधन मिलने से किसान से लेकर अन्य व्यापारी अवैध रूप से ड्रमों में रखकर पेट्रोल-डीजल उप्र के पेट्रोल पंपों से ला रहे है

By: rishi jaiswal

Updated: 04 Mar 2021, 11:02 PM IST

शिवपुरी/पिछोर. अनुविभाग अंतर्गत खनियांधाना, दिनारा आदि मप्र व उप्र की सीमाओं पर बने पेट्रोल पंपों से पेट्रोल व डीजल का अवैध कारोबार इन दिनों धड़ल्ले से जारी है। एक तरफ जहां शिवपुरी जिले के पंपों पर कोई यह ईंधन लेने आ नहीं आ रहा, वहीं 10 रुपए सस्ता ईधन मिलने से किसान से लेकर अन्य व्यापारी अवैध रूप से ड्रमों में रखकर पेट्रोल-डीजल उप्र के पेट्रोल पंपों से ला रहे है। इस अवैध कारोबार के फेर में कभी भी आगजनी का बड़ा हादसा हो सकता है। साथ ही स्थानीय पेट्रोल पंप वालों का व्यापार पूरी तरह से चौपट हो गया। जिम्मेदार अधिकारी सबकुछ जानकर भी कार्रवाई से दूर हैं।


जानकारी के मुताबिक पिछले दिनों पेट्रोल व डीजल के दामों में हुई खासी बढ़ोत्तर के चलते शिवपुरी जिले से लगी उप्र की सीमा के पेट्रोल पंपों से अवैध रूप से पेट्रोल व डीजल लाने का काम किसानों के साथ अन्य बड़े व्यापारी तक कर रहे हैं। अपने खुद के उपयोग के साथ यह लोग कम दामोंं में उप्र के पंपों से ईंधन लाकर उसमें भी मिलावट करके उसे बेचकर मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। इधर जिले के उप्र की सीमाओं पर बने पेट्रोल पंपों का व्यापार पूरी तरह से ठप होने की कगार पर है। 10 से लेकर 12 रुपए के कीमतों में अंतर होने से कोई भी मप्र के पेट्रोल पंप पर ईंधन नहीं ले रहा, वह सीधे उप्र की सीमा में जाकर वहां के पंप से सस्ते दामों में यह ईंधन बड़े पैमाने पर ला रहा है। इस पूरे गौरखधंधे में पुलिस सुविधा शुल्क लेकर इन कारोबारियों पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही।

एक ड्रम पर बचते हैं 2400 रुपए
कुछ किसानों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इन दिनों खेती-किसानी में सिंचाई के लिए पंपों को चलाने में काफी डीजल लगता है। एक ड्रम पर 2400 रुपए बचते हंै। ऐसे में हम उप्र की सीमा पर बने पंप से डीजल ले आते हैं। इससे हमको काफी लाभ होता है। हालांकि पूरे मामले में सबसे बड़ी बात यह है कि खुद के इस्तेमाल तक तो यह काम समझ आता है लेकिन अब किसान से लेकर दुकानदार उपयोग के साथ इसका व्यापार करने लगे हैं।

परचूने की दुकान व जनरल स्टोर पर बिक रहा पेट्रोल
स्थिति ऐसी हो गई है कि दिनारा, करैरा के कई गांव, पिछोर, बामौरकलां, खनियांधाना आदि स्थान जहां पर कुछ ही दूरी पर उप्र की सीमा में बने पेट्रोल पंप हैं। वहां से अवैध रूप से लाया गया यह ईंधन हर परचूने की दुकान से लेकर जनरल स्टोर की दुकान पर आसानी से उपलब्ध है। इसमें यह दुकानदार जहां कीमत में मुनाफा कमाते हंै वही पेट्रोल व डीजल में मिलावट करके अधिक लाभ कमा रहे है।

पूरे क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अवैध पेट्रोल-डीजल बेचने का कारोबार गांव-गांव हो रहा है। अब हमारे पंपों पर कोई नहीं आता। ऐसे में पूरा कारोबार ठप्प होकर रह गया है। मैंने इस संबंध में पुलिस अधीक्षक से भी शिकायत दर्ज कराई है।
रोहित गुप्ता, बिलैया पेट्रोल पंप संचालक

मेरे पास ऐसी अभी कोई लिखित या मौखिक शिकायत तो नहीं आई लेकिन आपके द्वारा जानकारी दी गई है तो मैं मालूम करता हूं। अगर इस तरह से अवैध रूप से पेट्रोल व डीजल का कारोबार हो रहा है तो संंबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
पीसी चंद्रवंशी, सहायक खाद्य अधिकारी, पिछोर

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned