खाद लेने आए किसान को आरक्षकों ने पीटा

पीडि़त की थाना प्रभारी ने नहीं की सुनवाई, एसपी ने किया आरक्षकों को लाइन अटैच

 

By: Rakesh shukla

Published: 19 Jan 2019, 09:10 AM IST

नरवर-शिवपुरी। जिले के नरवर में पुलिस थाने के सामने एक खाद की दुकान पर यूरिया का कट्टा लेने आए किसान के साथ गुरुवार की दोपहर दो आरक्षकों ने इस कदर पीटा कि उसके चेहरे से खून बहने लगा। पीडि़त किसान की जब नरवर थाना प्रभारी ने नहीं सुनी तो मारपीट का शिकार हुए किसान ने शिवपुरी आकर पुलिस अधीक्षक से शिकायत की। किसान को पीटने वाले दोनों आरक्षकों को एसपी ने लाइन अटैच कर दिया। महत्वपूर्ण बात यह है कि नरवर थाना प्रभारी अपने स्टाफ का बचाव करते हुए बोले कि पुलिस ने किसान को नहीं पीटा, खून तो उसके चेहरे पर फुंसी फूटने से निकल आया।
नरवर के ग्राम नरौआ में रहने वाला ओमकार पुत्र नवाब सिंह रावत गुरुवार की दोपहर पुलिस थाना नरवर के सामने स्थित खाद की दुकान पर यूरिया खाद का कट्टा लेने आया था। चूंकि खाद की शॉर्टेज है और दुकान पर जैसे ही खाद से भरा ट्रक आया तो वहां किसानों की भीड़ उमड़ पड़ी। प्राइवेट दुकान पर भी किसानों को लाइन में लगकर खाद मिल पा रही थी। इसी लाइन में ओमकार भी लगा हुआ था। जब खाद लेने के लिए किसान जद्दोजहद कर रहे थे, तभी वहां पर नरवर थाने में पदस्थ अरक्षक हरीश तिवारी व जयसिंह यादव वहां पहुंचे और ओमकार के साथ धक्का-मुक्की कर दी। जब ओमकार ने इस बात का विरोध किया तो आरक्षकों ने उसको लाइन से खींचकर वहीं पटककर बुरी तरह लात-घूंसों से मारपीट कर दी। जिससे ओमकार के चेहरे से खून निकल आया तथा उसके पूरे चेहरे पर खून के निशान स्पष्ट नजर आ रहे हैं। खाद के बदले मिली पिटाई से क्षुब्ध किसान ने नरवर थाने में दोनों आरक्षकों की शिकायत की, तो वहां थाना प्रभारी ने कोई तबज्जो नहीं दी। जिसके चलते पीडि़त किसान अपने कुछ साथियों के साथ शिवपुरी आया और एसपी ऑफिस में शिकायती आवेदन देते हुए आरक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। अन्नदाता के साथ हुई मारपीट को एसपी ने गंभीरता से लेते हुए मारपीट करने वाले दोनों आरक्षकों को लाइन अटैच कर दिया।
खाद कम-ज्यादा देने पर हुआ विवाद
जिले में इन दिनों किसान खाद के लिए परेशान है और उसे खाद सोसायटी तो दूर प्राइवेट दुकानों पर भी नहीं मिल पा रहा। गुरुवार को जब नरवर में एक दुकान पर खाद आया तो हर किसान चाहता था कि उसे पर्याप्त खाद मिल जाए, ताकि वो अपनी पूरी फसल में खाद दे सके। चूंकि दुकानदार द्वारा किसी को अधिक तो किसी को कम खाद के कट्टे दिए जा रहे थे और जब इस बात का ओमकार ने विरोध किया तो वहां मौजूद पुलिस आरक्षक हरीश व जयसिंह ने उसके साथ जमकर मारपीटकर दी। सरेराह किसान को आरक्षकों द्वारा किसान को पीटने की घटना से गुस्साए किसानों ने वहां पर हंगामा कर दिया। साथ ही पुलिस के चंगुल से किसी तरह ओमकार को छुड़ाया।
थाना प्रभारी ने ऐसे किया बचाव
किसान के साथ कोई मारपीट नहीं हुई। उसके चेहरे पर फुंसी थी, जो किसानों की आपसी धक्का-मुक्की में फूट गई और उससे खून बहने लगा। पुलिस अधीक्षक ने दो आरक्षको को लाइन अटैच किया है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि वे आरक्षक दोषी हैं। जब कोई शिकायत होती है तो ऐसी कार्रवाई की जाती है। किसान के आरोप निराधार हैं।
रामअवतार सिंह भदौरिया, थाना प्रभारी नरवर

यह बोले एसपी
नरवर में किसान के साथ आरक्षकों द्वारा मारपीट किए जाने की सूचना मुझे मिली है। मैं इस मामले की रिपोर्ट एसडीओपी से मंगवा रहा हूं। फिलहाल दोनों आरक्षकों को लाइन अटैच कर दिया गया है।
राजेश हिंगणकर, एसपी शिवपुरी

Show More
Rakesh shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned