कोविड अस्पतालों में सारा दारोमदार अब ऑक्सीजन सिलेंडर पर

All the cobwebs in Kovid hospitals are now on oxygen cylinders
मौजूदा परिस्थिति में हर समय आक्सीजन के दो सौ सिलेंडर के स्टॉक की जरुरत है। इस पर अधिकारियों ने सभी फर्म से ऑक्सीजन की उपलब्धता की समीक्षा की।

By: Gaurav

Published: 19 Apr 2021, 06:14 PM IST

All the cobwebs in Kovid hospitals are now on oxygen cylinders
-कोविड सेंटर में सौ नहीं दो सौ ऑक्सीजन सिलेंडर रहेंगे
-ऑक्सीजन आपूर्ति करने वाली फर्म को देंगे 80 खाली सिलेंडर
सीकर. जिले में कोरोना (corona)के साथ-साथ आक्सीजन की खपत भी तेजी से बढ़ती जा रही है। खपत में बढोतरी को देखते हुए जिले के एकमात्र कोविड अस्पताल में अब सौ की बजाए आक्सीजन के भरे हुए दो सौ सिलेंडर हर समय मौजूद रहेंगे। इसके लिए रविवार को जिले में आक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति करने वाली सभी फर्म ने कोविड अस्पताल में आक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म को 80 खाली सिलेंडर उपलब्ध करवाने की हामी भरी है। यह निर्णय रविवार को जिला केन्द्र सीकर में आयोजित बैठक में किया गया। बैठक में जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक डीके शर्मा, डीसीओ बलदेवा राम चौधरी, डीसीओ लता भारती, डीसीओ गजानंद कुमावत, शेखावाटी गैस एजेंसी सांवली रोड, श्याम गैस, स्काई गैसेज, बालाजी गैसेज, राजधानी गैसेज, राजस्थान गैस ट्रेडस के प्रतिनिधि व संचालक मौजूद रहे।


200 सिलेंडर की जरूरत
सांवली कोविड अस्पताल के प्रभारी डा देवेन्द्र दाधीच ने बताया कि मौजूदा परिस्थिति में हर समय आक्सीजन के दो सौ सिलेंडर के स्टॉक की जरुरत है। इस पर अधिकारियों ने सभी फर्म से ऑक्सीजन की उपलब्धता की समीक्षा की। इस दौरान कोविड सेंटर में आक्सीजन आपूर्ति करने वाली फर्म शेखावाटी गैस एजेंसी ने इसके लिए 80 खाली सिलेंडर की जरूरत बताई तो अन्य फर्मो ने 80 खाली सिलेंडर उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया। बैठक में बाजार में प्रति सिलेंडर 325 रुपए की दर पर देने की सहमति हुई।


कम लक्षण तो नए कोविड सेंटर में होंगे भर्ती
सीकर. कोरोना की दूसरी लहर के बढ़ते संक्रमण के दौर में होम क्वॉरंटीन से वंचित और कम लक्षणों वाले मरीजों के लिए जिला मुख्यालय पर नया कोविड केयर सेंटर बनाया जाएगा। इसके लिए नया कोविड केयर सेंटर सांवली स्थित डेडीकेटेड कोविड अस्पताल के पास बनेगा। जिससे आक्सीजन सपोर्ट और वेंटीलेटर पर गंभीर मरीजों को त्वरित इलाज मिल सके। ये निर्देश रविवार को जिला कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने आपात बैठक में संबंधित अधिकारियों को दिए। निर्देशों के अनुसार समाज कल्याण विभाग के खाली पड़े हॉस्टल को कोविड केयर सेंटर का रूप दिया जाएगा। जहां कोरोना के उन मरीजों को रखा जाएगा जिनके पास होम क्वॉरंटीन की सुविधा नहीं है या कोरोना के गंभीर लक्षण नहीं है। गौरतलब है कि चिकित्सा विभाग के शासन सचिव सिद्धार्थ महाजन ने सभी सीएमएचओ को हल्के लक्षणों वाले मरीजो के उपचार के लिए प्रत्येक जिले में जरूरत के अनुसार पांच सौ से एक हजार आइसोलेशन बेड की क्षमता वाले कोविड केयर सेंटर शुरू करने के निर्देश दिए हैं।


डोर टू डोर सर्वे से होगी मरीजों की पहचान
कोरोना मरीजों की पहचान व जांच के लिए डोर टू डोर सर्वे किया जाएगा। आपात बैठक में जिला कलक्टर ने कहा कि समय पर पहचान नहीं होने से अधिकांश मरीजों गंभीर स्थिति में पहुंच रहे हैं। वहीं कई लोग लक्षण होने के बावजूद जांच करवाने से बच रहे हैं। ऐसे में सभी एसडीएम के निर्देशन में टीम बनाकर डोर टू डोर सर्वे करवाया जाएगा। सर्वे कंटेनमेंट जोन से शुरू होगा। टीम में हेल्थ वर्कर्स, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, नगर परिषद व पुलिस विभाग के कर्मचारियों के अलावा नर्सिंग छात्र शामिल किए जाएंगे। लक्षण होने पर संबंधित का सैम्पल लेकर उपचार शुरू किया जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned