पेयजल किल्लत: पानी को तरसे ग्रामीण व पशु

गर्मी शुरू होते ही मची गांवों में पेयजल के लिए मारा-मारी

By: Ashish Joshi

Updated: 18 Apr 2021, 04:35 PM IST

सीकर/थोई. इलाके के नजदीकी ग्राम पंचायत कल्याणपुरा के राजस्व ग्राम कर्मली, बामरडा जोहड़ाए राजस्व ग्राम झाझडिया व कल्याणपुरा में पिछले कई सालों से सार्वजनिक पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं होने से ग्रामीण परेशान है। जल स्तर नीचे चले जाने के कारण किसानों को भारी परेशानी हुई है । इसके साथ ही ग्रामीणों व पशुओं के लिए भी पेयजल का संकट हो गया है। ग्राम कल्याणपुरा में लगभग 5000 की आबादी के लिए मात्र एक टंकी की व्यवस्था है जिसमें भी पानी की पूर्ति पर्याप्त नहीं होने से ग्रामीण आए दिन परेशान रहते हैं। पिछले 1 साल से जलदाय विभाग नीमकाथाना के अधिशासी अभियंताए अजीतगढ़ के सहायक अभियंता और श्रीमाधोपुर उपखंड अधिकारी को पेयजल की समस्या से कई बार ग्राम पंचायत के द्वारा अवगत करवाया गया लेकिन समस्या का स्थाई समाधान नहीं हुआ है। ग्राम पंचायत कल्याणपुरा के सरपंच पवन कुमार साईं का कहना है कि कोरोनावायरस के कारण ग्राम पंचायत में विकास कार्यो के लिए धन का अभाव रहा ।ग्राम पंचायत में सुराणी व कल्याणपुरा में जनता जल योजना में लगे ट्यूबवेल के बिलों का भी भुगतान बहुत मुश्किल से किया गया है। इस कारण टैंकरों से पानी की आपूर्ति ग्राम पंचायत द्वारा नहीं की जा सकी तथा प्रशासन ने इस संबंध में कोई ध्यान नहीं दिया है। प्रशासन के द्वारा पिछले 1 साल में 1 भी टैंकर की स्वीकृति नहीं दी गई है। जिसके चलते ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।
------------------
टंकी कर रही हैं पानी का इंतजार
गणेश्वर. गांव के आधीन ढाणी लादाला में पंचायत प्रशासन द्वारा करीब 2 वर्ष पूर्व एक पानी की टंकी व ट्यूबवैल खुदवाई थी, लेकिन ट्यूबवैल से लेकर पानी की टँकी तक अभी तक पाइप लाइन नहीं बिछाई गई। ग्रामीणो ने बताया की थोड़ी बहुत पाइप लाइन तो डाली गई थी। लेकिन वह भी गुम हो गई ट्यूबवैल की मोटर भी कम पावर की हैं। ग्रामीणो की मांग हैं अगर पंचायत प्रशासन पाइप लाइन व ट्यूबवेल की मोटर अधिक पावर की लगा दे तो करीब 30 से 40 घरों के लोगो को पेयजल समस्या से निजात मिल सकती हैं।

Ashish Joshi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned