राजभवन की चिट्ठी से प्रदेश में मची खलबली..

(Raj Bhavan's letter created panic in the state) सीकर. राजभवन की ओर से जारी एक चिट्ठी ने प्रदेशभर में खलबली मचा दी है। यह चिट्ठी निजी कॉलेजों से जुड़ी है।

By: Sachin

Published: 04 Mar 2021, 10:41 AM IST

(Raj Bhavan's letter created panic in the state) सीकर. राजभवन की ओर से जारी एक चिट्ठी ने प्रदेशभर में खलबली मचा दी है। यह चिट्ठी निजी कॉलेजों (rajasthan private college) से जुड़ी है। जिसमें कॉलेज संचालकों से बीएड कॉलेजों के स्टाफ की सूची मांगी गई है। अब चूंकि बहुत से कॉलेजों में या तो योग्य स्टाफ की कमी है या एक कर्मचारी के दस्तावेज ही कई कॉलेजों में लगे हैं। ऐसे में कॉलेज संचलकों के लिए यह चि_ी बड़ी परेशानी का सबब बन गया है।

आधार कार्ड से लिंक होंगे स्टाफ
उच्च शिक्षा विभाग बीएड कॉलेजों के स्टाफ को आधार कार्ड से लिंक कराने की तैयारी में है। इसके लिए विभाग स्टाफ की सूची व दस्तावेजों की बड़ी बारीकी से जांच परख कर रहा है। ऐसे में कॉलेज संचालक फर्जीवाड़े की परतें खुलने के भय से दस्तावेज जमा कराने से कतरा रहे हैं।

पहले भी जारी हुए पत्र
राजभवन की ओर से पिछले दिनों प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों को इस संबंध में पत्र जारी किया गया था। इसके बाद दो और पत्र जारी होने के बाद भी ज्यादातर कॉलेज संचालक सूची उपलब्ध नहीं करा सके हैं। इस मामले में अब राजभवन ने चेतावनी नोटिस जारी करने की तैयारी कर ली है। इससे पहले भी उच्च शिक्षा विभाग की ओर से चार साल पहले निजी कॉलेजों के स्टाफ की पूरी कुण्डली बनाने की कवायद शुरू की थी। लेकिन योजना सफल नहीं हो सकी थी।

कॉलेज संचालकों का यह तर्क
निजी कॉलेज संचालकों का कहना है कि उच्च शिक्षा विभाग की ओर से कॉलेजों के लिए दोहरे मापदंड अपनाए जा रहे हैं। इस कारण कॉलेज संचालक दस्तावेज जमा नहीं करा रहे हैं। यूजी, पीजी व इंजीनियरिंग, बीएसटीसी सहित अन्य कॉलेज भी निजी संस्थाओं की ओर से संचालित किए जाते हैं, लेकिन उनसे किसी भी तरह के दस्तावेज नहीं मांगे जा रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned